एक क्लिक यहां भी...

Thursday, June 30, 2011

चवन्नी की रुखसती...


चवन्नी की विदाई का वक्त है पूरे मुल्क के साथ लखनऊ का दिल भी बुझा-बुझा सा है. क्योंकि ये वो अमीर शहर है जिसने हमेशा चवन्नी को भी सर आंखों पर उठाया है. सुबूत चाहिए तो आफताब लखनवी के कुछ अश्आर आपकी खिद्मत में पेश किए दे रहा हूं-

मै अगर छू लूं चवन्नी को अधन्ना हो जाए

‘वो’ अगर बांस को छू ले तो गन्ना हो जाए (वो=महबूबा)

***

मेरे वालिद अपना बचपन याद करके रो दिए

इतनी सस्ती थी कि विद नमकीन चार आने की पी

पूरी बोतल मेरा छोटा भाई तन्हा पी गया

मैने मजबूरी में लस्सी भर के पैमाने में पी

ये अलग बात है कि नए दौर के लखनऊ ने आफताब लखनवी को ज़मानों पहले भुला दिया और दस बीस बरस में चवन्नी भी उसके ज़हन से गैर हाजिर हो जाएगी. वो चवन्नी जो कभी लखनऊ की ज़बान और बयान के आगे आगे चलती थी. लखनऊ के मकबूल तहज़ीबी जुमलों में चवन्नी का अच्छा खासा दखल था.

अगर किन्ही हज़रत में मर्दानगी कम है तो उनके लिए कहा जाता था कि ‘अमां उनकी चवन्नी कम है’. अगर कोई मोहतरम अक्ल से पैदल हैं तो उनके लिए गढ़ा गया जुमला था कि ‘अमां फुलां साहब चवन्नी गिराए घूमते हैं.’ और अगर कोई कंजूस है तो उसके लिए- ‘अमां छोड़िए वो तो रूपए में पांच चवन्नी बनाते हैं.’ हालांकि तमाम लखनवी तहज़ीब के इन तमाम एजाजो-इकबाल के बावजूद चवन्नी के फेयरवेल के दिन जो मुहावरा मैने सबसे ज्यादा सुना वो‘चवन्नीछाप’ का था, जिसे सुनकर शायद चवन्नी भी दिल शिकस्ता (टूटे हुए दिल वाली) हो जाती होगी.

जहां तक मेरी जानकारी है ये मुहावरा 80 के दशक में कानपुर में उपजा और बाद में पूरे हिन्दोस्तान में बीमारी की तरह फैला. होता यूं था कि कानपुर से एक दौर में नौटंकी की पार्टियां पूरे देश में जाती थीं. इनमें उत्तेजक प्रसंग आने पर दर्शक मंच की तरफ चवन्नियां उछालते थे. बाद में ये चलन सिनेमा हाल तक जा पहुंचा. इन्ही लोगों को चवन्नी छाप कहा जाता था. मुहावरा पूरी तरह इंसानी मेयार बताने के लिए था लेकिन बाद में चवन्नी का मेयार भी इसी से तय होने लगा. दुनिया ये भूल गई कि इसी चवन्नी से बचपन अपने बेशुमार ख्वाब खरीद लेता था.

बहुत पुरानी बात नहीं है जब लखनऊ में चिच्चा(पन्नी की छोटी पतंग) और डग्गा(कागज की छोटी पतंगें जिनके पीछे छोटी सी पूंछ लगी होती है.)पतंगों की कीमत चवन्नी हुआ करती थी. दो चवन्नी मिलाकर मै और मेरा भाई सुपर कमांडो ध्रुव नागराज या डोगा की एक कामिक्स किराए पर लाते थे,जिसे पढ़ते पढ़ते ही मै निराला, मीर और तहलका तक पहुंचा. 25 पैसे में इनाम खोलने का एक कूपन मिलता था जिसमें कभी कभी घड़ी और मिथुन या धरमिंदर का बड़ा पोस्टर तक हाथ लग जाता था. शक्तिमान का स्टिकर भी चवन्नी में ही दस्तयाब था. मांएं अपने बच्चों को नज़र और हाय से बचाने के लिए चवन्नी की शरण में ही जाती थी. फिर बच्चे अपनी करधनी और गले से चवन्नी लटकाए घूमते थे. यही नहीं आंख दुखने पर मां जो देसी ट्यूब (जिसे आम जुबान में गल्ला कहते हैं,) बच्चे के लगाती थी वो भी चवन्नी का मिलता था. इसके साथ ही संतरे की वो सदाबहार टाफियां भी याद आती हैं जो मेरे पूरे बचपन भर ‘चवन्नी की दो वाली’ संज्ञा से ही नवाज़ी जाती रहीं. (अंग्रेजी में मजबूत कुछ बच्चे इन्हे आरेंज वाली टाफी भी कहते थे). इसी तरह कुछ टाफियों का नाम 'चवन्नी वाली' भी था. संतरे की फांक जैसा लैमनजूस या लैमनचूस (पता नहीं इसका सही नाम क्या होता है,) भी चवन्नी का ही मिल जाता था.

बचपने का रिजर्व बैंक यानि गुल्लक को तोड़कर अपनी अमीरी दिखाने के लिए जब सिक्कों की कुतुब मीनार बनाई जाती थी तो उसकी सबसे ऊपरी मंजिल भी चवन्नी से ही बनती थी. ये भी कहा जाता था कि चवन्नी को अगर कड़वे तेल में डुबो कर रेलगाड़ी के नीचे रख दो तो वो चुम्बक बन जाती है, कई दफा ये प्रयोग मैने भी सिटी स्टेशन और चारबाग की पटरियों पर आजमाया लेकिन सफल नहीं रहा. चवन्नी को उंगली की चोट से देर तक घुमाने की प्रतियोगिताएं भी खूब होती थी जिसमें इनाम वही चवन्नी होती थी. स्कूल के बाहर काला वाला तेज़ाब मिला हुआ चूरन भी चवन्नी में एक पुड़िया मिल जाता था जो कि जबान पर छाला निकालने के लिए काफी होता था. इसी तरह आइसक्रीम के ठेलों पर डिस्को नाम की एक आकर्षक चीज (पन्नी में भरा ठंडा रंगीन मीठा पेय) का दाम भी 25 पैसे था.

लेकिन फिर एक वक्त और भी आया जब इसी चवन्नी के दिन ऐसे बदले कि सफर पर जाते वक्त ढूढ ढूढ के चवन्नियां रखी जाने लगी. भिखारियों को देने के लिए. और भिखारी भी इन्हे, देने वालों को चवन्नीछाप कहके वापस कर देने लगे. बच्चों ने चवन्नी लेकर दुकान जाना

बंद कर दिया और अगर कोई बच्चा पहुंच गया भी तो दुकानदार ने बनियागिरी दिखाते हुए उसका दिल तोड़कर उसे ये कहते हुए लोटा दिया कि चवन्नी नही चलेगी. जबकि मुझे घर के पास वाला बनारसी आज भी याद है जिसने मुझे 25 पैसे की इमली की गोली एक बिस्सी यानी 20 पैसे में इस शर्त के साथ दी थी कि मै पंजी या 5 पैसे उसे बाद में दे दूंगा. हालांकि मै उन्हे कभी दे नहीं पाया और पता नहीं बनारसी दादा कहां चले गए. चवन्नी के बंद होने पर व्यवहारिक रूप से कोई क्षोभ जरूरी नहीं है. लेकिन फिर भी चूंकि ये घटना अतीत के खूबसूरत पन्ने दोबारा पलट गई है इसलिए माहौल का जज्बाती होना लाजिमी है. पहले बनारसी दादा गए, फिर बचपन गया और आज बचपन के खजाने का सबसे बड़ा सिक्का यानि चवन्नी भी रूखसत हो गई.



हिमांशु बाजपेयी
(CAVS
के छात्र रहे
लेखक युवा पत्रकार और कवि हैं. देखने में तो नहीं पर लिखने में बेहद खतरनाक और मारक हैं. हालांकि ज्यादा जाने जाते हैं, जज्बाती और इश्किया शायरी के लिए. पर मुझे लगता है कि
नौस्टेल्जिया आधारित लेख लिखने वाले सबसे अच्छे लेखकों में से हैं. लखनऊ में रहते हैं और लखनऊ शहर को लेकर बेहद जज्बाती बल्कि ओब्सेस्ड टाइप हैं. फिलहाल लखनऊ में ही तहलका हिंदी के संवाददाता हैं.)

Monday, June 13, 2011

कर्तव्यों का अतिरेक तो नहीं...

दोस्तों यह बात शेयर करने की तो नहीं लेकिन क्या करूं मन में लगी नहीं रखना चाहता। एक पत्र ने धमतरी में बाबा के आंदोलन के दौरान जुआ खेलते कुछ आंदोलनकारियों की खबर छापी। जब इस पत्र की खबर छपी तो सेंट्रल टीम इसे अपने मुख पृष्ठ पर न ले पाने के लिए मलाल करने लगा। भैया मुझे यह बात समझ में नहीं आई कि जब कोई पत्र अपने क्लाइंटों की बड़ी से बड़ी करतूतों को छुपाते हैं। क्या कह कर? सिर्फ इतना कि वह हमारे क्लाइंट हैं, विज्ञापनदाता हैं, तो बाबा को बदनाम करने वाली इस छोटी से खबर को क्यों नहीं छुपा सकते। वह काम पत्र के मार्केटिंग प्रभाग वाले करते हैं, बाबा को बदनाम करने वाले ऐसे घटनाक्रमों को एडिटोरियल वाले छुपा सकते हैं। यह पाप नहीं बल्कि पुण्य है, क्योंकि बाबा का लक्ष्य अच्छा है। यह नैतिक आधार पर ईमानदारी का काम है, न कि पाप। यही भेद पत्रकारों में होना जरूरी है। कई विद्वान तो यहां तक कहते हैं, कि दुनिया में कोई भी पाप पुण्य जैसी चीजें नहीं है, बल्कि हमारा इन्हें पहचानने का बल नहीं है। सही गलत के ज्ञान को ही आत्मज्ञान या परम पॉवर कहते हैं। बाबा रामदेव का अनशन खत्म हुआ, ड्रामा, नौटंकी, सरकार की अख्खड़बाजी और योग मिजाज सबकुछ ठंडा हो गया। सबसे दुखद है, कि अब मीडिया के पास हैपनिंग नहीं बचीं। इससे अगर किसी को फायदा हुआ तो वह अमिताभ बच्चन को। क्योंकि वे 13 साल के ओरो से पीडि़त बच्चे को रोल में फैल होने के बाद अब बुढ्ढे की भूमिका वाली बुढ्ढा होगा तेरा बाप फिल्म लेकर आ रहे हैं। अगर यह न्यूज मीडिया बाबा में लगा रहता तो अमिताभ बाबा का क्या होता?
सबकी बात एक बात अच्छे के लिए किए गए

नांतर बहती हुई समुद्र में गिर जाती हैं। इस बीच वे जमीन को रिचार्ज भी करती हैं। वह गंदगी गौढ़ हो जाती है।
सखाजी

Tuesday, June 7, 2011

बहुमत किसी का गला घोंटने की इजाजत नहीं देता

तकरीबन रात के 1 बजे थे और मैं सोने जा रहा था तभी हमारे सहयोगी ने कहा यार एसएमएस आया है जिसमें कहा गया है कि बाबा रामदेव के समर्थकों पर पुलिस लाठी चार्ज कर रही है।पहले तो यकीन नहीं हुआ क्योंकि स्वामी रामदेव का आंदोलन तो शांतिपूर्ण था और रात में जब 75000 लोगों से ज्यादा सत्याग्रही लोग एक साथ सोए तो भारत जैसे लोकतांत्रिक देश में ऐसी घटना की उम्मीद नहीं की जा सकती थी लेकिन मन नहीं माना और हमने टेलीविजन टर्न ऑन किया।यकीन मानिए जो उसके बाद देखा मेरे मन में सरकार के प्रति सहानुभूति खत्म हो गई।एक मामूली पढ़ा लिखा और जिसे इस दुनिया की समझ हो वह दिल्ली के रामलीली मैदान में हुए घटना की निंदा करेगा.. लेकिन केंद्र सरकार और उसके मंत्रियों ने इसे भी जायज ठहराया।सवाल है कि आखिर रामदेव ने ऐसा क्या किया जिससे सरकार इतनी नाराज थी..

रामदेव के समर्थकों को डंडे से पीटना,उन्हें जूते तले रौंदना और आंसू गैस के गोले छोड़ना क्या ये किसी तरह न्यायोचित था।यह लोकतांत्रिक देश है और यहां किसी भी व्यक्ति को बोलने का पूरा हक है और बाबा रामदेव तो 1 अरब 21 करोड़ हिंदुस्तानियों की बात कर रहे थे।विदेशी बैंको में पड़े 400 करोड़ रूपये को राष्ट्रीय संपत्ति घोषित करने की मांग नाजायज है,क्या भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कड़े प्रावधान करने की मांग जायज नहीं थी।कौन नहीं जानता है कि 1 लाख 76 हजार करोड़ का घोटाला इसी सरकार की अगुआई में हुआ,कौन नहीं जानता कि 70000 हजार करोड़ रूपये का राष्ट्रमंडल घोटाला इसी सात सालों में हुआ।रामदेव और उनके समर्थकों में जिस तरह बर्बरता से जुल्म ढ़ाया वह हिटलर और मुसोलिनी द्वारा किये गए कुकर्मों की याद दिलाता है।आज जो दिग्विजय सिंह रामदेव के खिलाफ उगल रहे हैं उन्हीं दिग्विजय सिंह ने 10 साल में मध्यप्रदेश के लिए क्या किया किसी से छिपा नहीं है।यही दिग्विजय सिंह हैं जो कहा करते थे कि चुनाव विकास से नहीं मैनेजमेंट से लड़े जाते है ।दिग्विजय सिंह और कांग्रेसी नेता को पूरी घटना पर मांफी मांगनी चाहिए नहीं तो देश उन्हें कभी माफ नहीं करेगा।इतिहास बड़ी निर्दयी होता है और उसने नहीं तो इंदिरा गांधी,नही तो मुसोलिनी और न ही सद्दाम हुसैन या और किसी आततायी को बख्सा है।

क्या इस देश में सत्याग्रह करना गुनाह है और क्या निहत्थों और भूखे बेबस लोगों पर लाठियां चलाना जायज है।मेरा सवाल है कि आखिर कब तक एक आम भारतीय भूखे ,नंगे ,भ्रष्टाचार,घूसखोरी और दरिद्रता की जिंदगी जीते रहेंगे।क्या सरकार नहीं जानती की अरबों रूपये प्रत्येक साल इस देश से टैक्स हेवन कंट्री में रखे जाते है .और सरकार इस बात को जानती है तो उसने अभी तक इस मुद्दे पर क्या कार्रवाई की।क्यों नहीं देश का पैसा देश में आ सका।पिछले 60 सालों में हमें दरिद्री,भूखमरी,लाचारी और बेजारी के सिवा हमें इस सरकार से मिला क्या और अगर कोई व्यक्ति लीक से हटकर देश और समाज के लिए भलाई की बात करता है तो क्या यह गलत है क्या एक संन्यासी मंदिर या सड़कों पर भीख मांगे तो यह सरकार को अच्छा लगेगा और कोई अगर देश से संबंधित मुद्धों पर अनशन करता है तो उस पर लाठियां चलायी जाए।रामदेव को ठिकाने लगाने पर अब सरकार के निशाने पर अन्ना हैं और वह अन्ना की टीम के साथ भी करने का इरादा करती है खैर बहुमत आपके साथ है । सत्याग्रहियों पर आंसू गैस की गोलियां चलवाइए, निहत्थों ,महिलाओं और औरतों की कपड़े फाड़ना अगर अब आपका यह काम है तो करते जाइए लेकिन याद रखिएगा जनता एक पंडित है जो अगर किसी की शादी करवाता है तो वह श्राद्ध भी करवाता है जिस जनता ने आपको बहुमत से जिताया है वही जनता आपको सत्ता से बाहर भी कर देगी..याद रखिए मनमोहन सिंह जी चुनाव में जनता आपसे हिसाब मांगेगी दिग्विजय सिंह जैसे चंद लफ्फाजों से नहीं जिसके बात पर शायद ही कोई विश्वास करता है।दिग्विजय सिंह एक पागल कुत्ते की तरह हैं जो किसी पर भी भौकने और कांटने के लिए दौड़ता है....क्रमश..

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....