एक क्लिक यहां भी...

Wednesday, December 31, 2008

नया साल मंगलमय हो !

वर्ष नव,
हर्ष नव,
जीवन उत्कर्ष नव।
नव उमंग,
नव तरंग,
जीवन का नव प्रसंग।
नवल चाह,
नवल राह,
जीवन का नव प्रवाह।
गीत नवल,
प्रीत नवल,
जीवन की रीत नवल,

जीवन की नीतनवल,
जीवन की जीत नवल

तस्वीरों में २००८ (भारत)

साल २००८ ख़त्म होने में कुछ घंटे ही बचे हैं......तो इसे सलामी देते हुए हम लाये हैं, २००८ की कुछ ऐसी तसवीरें जिन्हें भारत हमेशा याद रखेगा.....क्यूंकि हम विशवास करते हैं कि एक तस्वीर - हज़ार अफ़साने !


देखिये कुछ ऐसी ही खट्टी मीठी स्मृतियाँ २००८ की .........अलविदा २००८ क्यूंकि गया वक़्त कभी लौट कर नही आता बस उसकी याद आती है .......


जनवरी 2008


टाटा ने दिखाई सपनो की कार नैनो ....पर अभी सपना नैनो में ही


फरवरी २००८


पकड़ा गया किडनी काण्ड का मुख्य आरोपी डा अमित ..... तेवर तो देखो ज़रा !


मार्च २००८

छठे वेतन आयोग ने दी कर्मचारियों को आशाओं की लॉलीपॉप
अप्रैल २००८

भारत ने एक साथ १० उपग्रह एक ही यान से छोड़े, विश्व रिकॉर्ड
मई २००८


आरक्षण की आग से गुर्जरों ने फूँका राजस्थान, चुनाव में भी हुआ उलटफेर
जून २००८

पेट्रोल, डीसेल में लगी आग, गैस और ज्वलनशील .... हुई मंहगी !

जुलाई २००८

नेता क्या चाहे वोट, संसद में उछाले नोट !


अगस्त २००८

नेताओं की बेशर्मी को युवाओं ने धोया....ओलंपिक में गाडे झंडे पहली बार !


सितम्बर २००८
उडीसा में चर्च के ख़िलाफ़ हिंसा, सरकार बेबस !
अक्टूबर २००८
ज़मीन का कदम चाँद पर, भारत की शान - चंद्रयान !
नवम्बर २००८

भारतीय नौसेना ने उडाये समुद्री लुटेरों के छक्के, बार बार लगातार
दिसम्बर २००८

विधानसभा चुनावों में जनता जीती, दिग्गज हारे...दिया विकास को वोट !
दोस्तों ये था केव्स परिवार की ओर से २००८ की प्रमुख घटनाओं (भारत) का एक एल्बम ....आगे अभी और बहुत है....कल भी ....परसों भी....१० दिन तक
फिलहाल
नए साल की मुबारक एडवांस में .....!
शुद्ध ह्रदय की ज्वाला से विशवास दीप निष्कंप जलाकर
कोटि कोटि पग बढे जा रहे तिल तिल जीवन गला गला कर
जब तक ध्येय ना पूरा होगा, तब तक पग की गति ना रुकेगी
आज कहे दुनिया चाहे कुछ, कल को बिना झुके ना रहेगी
देश के नाम अपनी पाती भेजें @gmail.com पर
और
हमें नए साल पर अपने लेख, रचनाएँ भेजें cavssanchar@gmail.com पर !


देश एकजुट है

हमारे देश मैं यूँ तो आतंकवादी घटना कोई नई बात नही आए दिन हो ही जाती है। गोया आतंकवादी घटना कोई नोटिस करने जैसी चीज ही नही है ये कहना हमारे देश के उन जिम्मेदार राजनेताओं का है जिन्हें हम वोट देकर भइया आए हैं और नई चेतना लाये हैं ,भइया नही ये आंधी हैं हमरे क्षेत्र के गाँधी है। टाइप टाइप के नारे लगातेहैं और अंत मेभइया के जवाबों से अवाम का सीना छलनी होता है तो भइया के ठेंगे से। भोपाल सहर मैं एक गुंडा है उसका नाम बल्ली है, आरिफ अकील के लिए भोपाल मैं आरिफ नगर की झुग्गी झोपडी मैं वसूली करना उसका काम है। कुछ दिन पहले एक काम के सिलसिले मैं हमारी बात हुई तो उसने कहा "बहुत गोलियां चलाई है भाई,४५ मुकदमे हैं पे खुदा कसम एक बार बॉर्डर पे छोड़ दो तो कम से कम ८-१० को तो मार कर मरूँगा ये हमारेदेश के उन लोगों का कथन है जिन्हें हमारी सरकार , हमारी पुलिस, जनता सभी अपराधी कहती है और भइया तो भइया ही हैं
अगर देश का अपराधी वर्ग भी राष्ट्र सेवा के लिए इतना तत्पर है तो हम पीछे कैसे रह सकते हैं । हम जहाँ भी हैं जो भी हैं राष्ट्र के काम मैं समर्पित हैं और रहेंगे

Tuesday, December 30, 2008

केव्स संचार पर नए वर्ष के स्वागत समारोह में शामिल हों !

केव्स संचार पर हम अपनी तरफ़ से तो आपके लिए नए वर्ष के स्वागत में काफ़ी कुछ प्रकाशित करेंगे ही, हम चाहते हैं कि आप पाठक भी इस स्वागत समारोह में हमारे साथ शामिल हों.....यह विशेष अंक १० जनवरी तक चलेगा....हम चाहते हैं कि आप हमें अपनी रचनाएँ, अपनों के नाम संदेश हमें भेजें.....हमारा ई मेल पता है cavssanchar@gmail.com
यही नहीं हम एक विशेष अभियान " देश के नाम, देश की पाती" भी लेकर आए हैं जिसमे आप हमें आतंकवाद के ख़िलाफ़ भारत कितना एक जुट है इसके लिए अपने शुभकामना संदेश भारतीयों के नाम भी भेज सकते हैं इसके लिए हमें अपने संदेश भेजें jantajanaardan@gmail.com ! सर्वश्रेष्ठ संदेश हम रोज़ प्रकाशित करेंगे और अंत में उन पर आधारित एक विशेष आलेख प्रकाशित करेंगे !

Monday, December 29, 2008

जम्मू कश्मीर में चुनाव नतीजे, सवाल और संभावनाएं ....

एक बहुप्रतीक्षित जिज्ञासा का समापन हुआ और कल देर शाम तक जम्मू और कश्मीर की सभी ८७ विधानसभा सीटों के चुनाव नतीजे हम सबके सामने थे। इन नतीजों से चारों तरफ़ काफ़ी नतीजे निकाले जा सकते हैं और सबसे बड़ी बात किकुछ चीज़ों पर विचार करने की भी आवश्यकता महसूस होती है। क्या सोचने की ज़रूरत है इस पर अगली पोस्ट में चर्चा की जायेगी पर क्या अलग अलग बातें निकल के आती हैं उस पर बात करते हैं। सबसे पहले बात नतीजों की,
चुनाव परिणाम जहाँ कि कहा जा रहा है कि जनता ने लोकतंत्र को जिताया है इस प्रकार रहे,
नेशनल कोंफ्रेंस: २८ सीट
पीपुल्स डेमोक्रटिक पार्टी: २१ सीट
कोंग्रेस: १७ सीट
भाजपा: ११ सीट
अन्य: १० सीट
दरअसल इन परिणामों को किसी एक वाद या धरा से जोड़ कर देखना मुश्किल है....और यह दूसरी बार है जब कश्मीर में जनता ने एक त्रिशंकु विधानसभा चुनी है। कौंग्रेस को ज़ाहिर तौर पर नुक्सान हुआ पर उस नुक्सान का फायदा किसी एक दल को मिलने की जगह बनता हुआ नज़र आया है और यह दिखा रहा है कि जनता के अलग अलग धडो में अलग अलग विचार चल रहा था।
नेशनल कौन्फ्रेंस की सीट पिछली बार भी उतनी ही थी और इस बार भी उतनी ही रही इसका सीधा अर्थ यह है कि उन्होंने कोई तीर नहीं मारा है और वे वहीं खड़े हैं...पर कौंग्रेस की सीट कम होने का फायदा उसे मिला। इससे यह ज़रूर कहा जा सकता है कि फारूक और उमर के लिए कश्मीरी अवाम का प्यार कम नहीं हुआ है पर बढ़ा भी नहीं है।
उधर पी डी पी की सीट पिछली बार की सोलह से बढ़कर इस बार २१ हो गई है, इसके दो कारण हो सकते हैं एक यह कि वे शायद अपनी बारी में कुशल प्रशासन दे सके (जो कहना अतिश्योक्ति होगा) और दूसरा यह कि वह इन चुनावों में अपने पुराने घिसे पिटे कश्मीरियत/ स्वायतता के राग और अमरनाथ बवाल को भुनाने में सफल रही। पर सीट बढ़ने पर भी सरकार बना पाने की स्थिति में वह नही दिखती है।
कौंग्रेस दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से अमरनाथ विवाद का शिकार हो गई। गुलाम नबी की सरकार ने काम ठीक ठाक किया पर अमरनाथ विवाद में जम्मू के हिन्दुओं से उन्होंने नाराजगी मोल ली और उनकी नाव गोते खाने लगी हालांकि अभी भी सत्ता की चाबी उनके ही पास है।
सबसे ज्यादा किसी को फायदा हुआ तो वह है भारतीय जनता पार्टी, सही समय पर मौके की नब्ज़ पकड़ कर उसने जिस तरह जम्मू में अमरनाथ विवाद को हवा दी और उग्र आन्दोलन चलाया; उसका पूरा फायदा उसे हुआ। एक बार फिर भाजपा को ईश्वर के नाम का सहारा मिला और इस तरह धर्म के चोर दरवाज़े से भाजपा जम्मू कश्मीर में अपनी राजनीतिक ज़मीन तलाशने में कामयाब हुई। भाजपा को ११ सीट मिली हैं जबकि पिछली बार वह १ सीट ही जीत पायी थी।
पर शायद सबसे बड़ा नुक्सान किसी का हुआ है तो वह है अन्य जिनमे अधिकतर निर्दलीय हैं, वे बेचारे २२ से घटकर १० पर आ गए हैं। इनका सबसे बड़ा नुक्सान किया है भाजपा ने और फिर पीपुल्स डेमोक्रटिक पार्टी ने, शायद यह पिछली बार वाली संख्या में होते तो कौंग्रेस की जगह इनके हाथ में सत्ता की चाबी होती।
लेकिन जब हम इन चुनावों के परिणामों का विउश्लेशन करेंगे तो कई चौकाने वाली बातें निकलेंगी। पहला तो यह कि जम्मू की और कश्मीर की अवाम की सोच बिल्कुल अलग अलग है। भाजपा की चकित करने वाली बढ़त ने यह स्पष्ट संदेश दिया है कि अमरनाथ मुद्दे पर वह भाजपा के रुख का समर्थन करती है। दूसरी ओर कश्मीर की अवाम ने पी डी पी को ज्यादा सीट दे कर कहीं न कहीं अमरनाथ मुद्दे पर जम्मू की जनता से विरोध जताया है और कहीं न कहीं इसके और भी खतरनाक छुपे संकेत हैं और वह है कि कट्टरपंथी पूरे भारत की तरह यहाँ भी हावी हैं।
यही नहीं निर्दलियों की घटती संख्या यह भी संकेत देती है कि लोग निर्दलीय उम्मीदवार की जगह पार्टी को वोट देना बेहतर समझ रहे है जबकि पिछली बार की स्थिति इससे अलग थी। लेकिन उससे भी बड़ी बात यह है कि लोगों ने वहाँ की सबसे पुरानी राष्ट्रीय पार्टी कौंग्रेस की बजाय क्षेत्रीय दल को वोट देना बेहतर समझा।
पर सबसे बड़ा जो सवाल मेरे जेहन में उठ रहा है कि कहीं यह जम्हूरियत के साथ साथ अलगाववाद को भी वोट तो नहीं है ? जम्मू और कश्मीर में एक ही मुद्दे पर आधारित मतदान के दो परस्पर विरोधी रुख कहीं जम्मू और कश्मीर में दो ध्रुवों के कट्टरपंथ की हवा के दिशा सूचक तो नहीं ? कहीं ऐसा तो नहीं की कश्मीर के लोग अलगाव वाद के रास्ते पर चलते हुए मूलभूत विकास भी चाहते हैं और इस लिए वोट भी करते हैं ?
हालांकि ऐसा पूरी तरह नहीं कहा जा सकता क्यूंकि पी डी पी ने जम्मू में भी २ सीट जीती हैं, फिर भी सवाल बड़े हैं क्यूंकि भले ही सरकार इन चुनावों को जम्हूरियत की जीत बता रही हो, गौर से देखने पर यह कट्टरपंथ की बढ़त भी है। क्या भाजपा की बढ़त बदलाव का संकेत है या घाटी में राजनीतिक कट्टरपंथ के नए युग कान सूत्रपात ? क्या केवल चुनाव हो जाना और सरकार बन जाना NC और पी डी पी के भारतीय समर्थक दल होने का प्रतीक हैं या इस बहाने अप्रत्यक्ष रूप से अलगाव वाद के एजेंडे को आगे बढाया जा रहा है और वह भी सरकारी खर्चे पर. सबसे बड़ा प्रश्न यह है कि अलगाववादी गुटों की अनदेखी कर के मतदान तो हुआ है पर आज भी वहा के अवाम के लिए बड़ा क्या है, भारतीयता या कश्मीरियत ?

Thursday, December 25, 2008

जन्मदिन की माया

औरय्या में लोक निर्माण विभाग के इंजिनियर को कुछ लोगों ने पीट-पीट कर मार दिया। कातिल उत्तर प्रदेशके हुक्मरानों से जुड़े बताये जा रहे हैं । इंजिनियर भयमुक्त समाज की दृष्टा मायवती की सालगिरह नहीं मानना चाहता था । ये घटना इस बात को दिखाती है की अगर झूठे दावों और आत्ममुग्ध भाषणों का मेकप न लगा हो तो हिन्दुस्तान की जम्हूरियत का चेहरा कितना खौफनाक है । मैं राजनीति को गाली देने का हिमायती कभी नही रहा , न ही मैं राजनीति के प्रति किसी दुराग्रह से प्रेरित हूँ , लेकिन इस बात को लिखते हुए बहुत कष्ट होता है हमारे यहाँ राजनीतिकी देवी को बाहुबलियों और गुंडों ने अगवा कर लिया है , गुंडे कभी उसे साइकिल के कैरियर पर बैठाल कर घुमते हैं तो कभी हाथी पर । और राजनीति बस मुल्क की रहगुज़र पर बेसबब चलती रहती है
अलवा ने जब कोंग्रेस में टिकट बेचने की बात कही तो माया ने एक राहत की साँस ली होगी की कम से कम टिकट के हमाम में कई नंगे और भी हैं लेकिन जन्मदिन को लेकर बसपा जैसी व्हिप कही नही जारी होती होगी । मायावती के पिछले जलसों पर भी उप के कई अधिकारी वर्दी में उन्हें अपने हाथों से केक खिलाते देखे गए हैं , जबकि ये वही माया हैं जो उत्तर प्रदेश के कृषि आयुक्त अनीस अंसारी को इसलिए हटा देती हैं की उनकी पत्नी ने सरकारी घर पर फैशन शो किया जो की सरकार की गरिमा को ठेस पहुचने वाला काम था ।
मायावती २००७ में जब सोशल इंजीनियरिंग के फार्मूला से मुख्यमंत्री बनी थी तो जनता ने पहली बार उनसे सकारात्मक उम्मीद की थी । शायद माया ने भी अपने से कुछ ज्यादा उम्मीदें पाल राखी थी तभी उन्होंने प्रधानमंत्री की कुर्सी पर भी नज़र दाल ली , लेकिन इस प्रकरण ने माया को तो न सही जनता को तो ये बता ही दिया है की लोकतंत्र में सिर्फ़ वोट देना और सही व्यक्ति को चुन लेना दो अलग अलग बातें हैं । फिलहाल बहिन जी कह रही हैं की इस घटना को उनके जन्मदिन से जोड़ कर देखना ग़लत है, और रिपोर्ट दर्ज होने , हर्जाना , दोषियों के ख़िलाफ़ कार्यवाही जैसी बातें , लेकिन माया ये भूल जाती हैं की सियासत के ताज में कांटे भी होते हैं । हर्जाना तो शायद मजाक जैसा ही होता है और कार्यवाही के बारे में तो सबको पता है.......

क्रिसमस और ईसा की बात .....

आज क्रिसमस है...और कल से ही इसे मनाने की शुरुआत हो चुकी है, क्रिसमस के दिन / रात कहा जाता है कि ईसा का जन्म बेथलेहेम में हुआ था....ईसा जिन्होंने ईसाइयत से ज्यादा मानवता की सीख दुनिया में फैलाई। पता नहीं पर हम में से ज़्यादातर लोग उन्हें ईसाई धर्म के प्रवर्तक के रूप में ज्यादा जानते हैं ( ईसाई भाई भी ) और ऐसा शायद दुनिया के ज़्यादातर प्रचारकों के साथ हुआ। फिर चाहें वो मोहम्मद रहे हों या बुद्ध ......

दरअसल समस्या यह रही कि हम लोगों को उनके द्वारा कही गई बातों और उनके द्वारा किए गए कामों से ज़्यादा उनके अनुयायियों की कट्टरता से जोड़ कर देखते हैं। हम अपने भी धर्म प्रचारकों के धर्म प्रचार को तो याद रखते हैं पर उनकी मूल शिक्षाओं को भूल चलते हैं, यही इस्लाम के साथ हुआ और कमोबेश यही हुआ ईसाइयत के साथ। बाद के धर्मावलम्बियों ने ईसा या मोहम्मद की शिक्षाओं की जगह केवल और केवल धर्म के प्रचार को लक्ष्य बना लिया और वह भी किसी भी तरीके से।

कुछ ऐसे लोग जिन्होंने अपनी ताकत से अपनी धार्मिकता के प्रसार का तरीका अपनाया उन्होंने हिंसा का सहारा लिया, प्रलोभन का सहारा लिया, अन्य समाजों में व्याप्त अशिक्षा का सहारा लिया और दुर्भाग्य वश उनकी वजह से एक आम मुसलमान या आम ईसाई को भी कट्टर या हिंसक होने के ठप्पे नवाज दिया गया।

गलती उनकी भी थी जिन्होंने धर्म की भावना के बजाय धर्म का प्रसार करना चाहा और उनकी भी जिन्होंने हर उस धर्म के अवलंबी को ग़लत मान लिया ...... गलती उनकी भी रही जिन्होंने अपने धर्म की पंथ की मूल बातों की जगह केवल कर्मकांडों के पालन को ही धर्मावलंबन बना लिया। फिर चाहे वो अन्धविश्वासी हिन्दू रहे हों, हर मुहर्रम पर पुरानी धारणाओं को लेकर लड़ पड़ने वाले मुसलमान या चर्च के प्रति अंधभक्ति में मासूम स्त्रियों को डायन कह जला देने वाले ईसाई !

आज जयंती है ईसा की .....इसे मनाएं उस ईसा की याद में जिसने येरुशलम के तानाशाहों के खिलाफ अहिंसक लड़ाई की ....वो जिसने बताया कि बाँट कर खाने पर एक रोटी भी पूरे कुनबे का पेट भरती है। ईसा वो महापुरुष थे जिन्होंने कहा कि दूसरे पर ऊँगली उठाने से पहले ख़ुद के गुनाह गिनो !

मनाये उस ईसा का जन्मदिन जिसने सलीब पर लटकते वक़्त अपने कातिलों के लिए कहा था,

" हे प्रभु इन्हे माफ़ कर देना, क्यूंकि ये नहीं जानते कि ये क्या कर रहे हैं !"

क्यूँ न सीखें हम सब एक दूसरे को माफ़ करना हर परिस्थिति में ?

कहते हैं कि क्रिसमस पर सच्चे दिल से सांता क्लाज़ से जो मांगो वो मिलता है....तो क्यूँ न मांग लें एक खूबसूरत दुनिया ...... जहाँ हम सबकी अच्छी बातों को अपना लें .....बुराइयों को बताएं उन पर चर्चा करें और अपने मन से उखाड़ फेंकें.......ईर्ष्या, द्वेष और शत्रुता .......क्यों न सीखें दोस्ती करना दुश्मन से भी..अपनी नफरत का ज़हर अपने बच्चों तक ना जाने दें!....और आखिरकार बना पाएं इस दुनिया को रहने के लिए एक बेहतर जगह !

बशीर बद्र का कहा याद रखें,

ख़ुदा हम को ऐसी ख़ुदाई न दे

कि अपने सिवा कुछ दिखाई न दे

हँसो आज इतना कि इस शोर में

सदा सिसकियों की सुनाई न दे

ग़ुलामी को बरकत समझने लगें

असीरों को ऐसी रिहाई न दे

ख़ुदा ऐसे इरफ़ान का नाम है

रहे सामने और दिखाई न दे

अंत में क्रिसमस का विश्वप्रसिद्ध गीत प्रस्तुत है एक अलग अंदाज़ में !

Sunday, December 21, 2008

गरीबी

एक कवि था जिसने हमें यह बताया की किस प्रकार प्रेम की कोमल अनुभूतियों और जीवन के कड़वे सच को एक साथ बिठा कर दोनों से बातें की जा सकती है.....एक कवि था जिसने तब द्रोह्गान किया जब दुनिया उसकी दुश्मन थी, एक कवि हुआ जिसने लिखा वो जो लिखा ना गया उसके पहले न उसके बाद......

१९७१ में पाब्लो नेरुदा को साहित्य का नोबेल मिला तब वे किस्मत से फ्रांस में चिली की राजदूत थे नहीं तो शायद फरारी में होते और अपना पदक लेने भी ना जा पाते। १२ जुलाई १९०४ को चिली के छोटे शहर पराल में पैदा हुए नेरुदा ने तानाशाहों के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाई और देश छोड़ने को मजबूर हुए, इटली में शरण लेने गए तो वहाँ भी छुप छुप कर रहे.....अलग अलग तरह की कवितायें लिखी....एक ओर प्रेम की आकांक्षाओं से भरी तो दूसरी ओर बगावत और यथार्थ के तेवरों से भरी......ऐसी ही एक कविता पेश है.........

इस कविता का अनुवाद प्रसिद्द कवि सुरेश सलिल ने किया है और उनके अनुदित नायक के गीत संग्रह में यह कविता उपलब्ध है।

गरीबी

आह, तुम नहीं चाहतीं--
डरी हुई हो तुम
ग़रीबी से

घिसे जूतों में तुम नहीं चाहतीं बाज़ार जाना
नहीं चाहतीं उसी पुरानी पोशाक में वापस लौटना
मेरे प्यार, हमें पसन्द नहीं है,
जिस हाल में धनकुबेर हमें देखना चाहते हैं,
तंगहाली ।

हम इसे उखाड़ फेंकेंगे दुष्ट दाँत की तरह
जो अब तक इंसान के दिल को कुतरता आया है
लेकिन मैं तुम्हें
इससे भयभीत नहीं देखना चाहता ।

अगर मेरी ग़लती से
यह तुम्हारे घर में दाख़िल होती है
अगर ग़रीबी
तुम्हारे सुनहरे जूते परे खींच ले जाती है,
उसे परे न खींचने दो अपनी हँसी
जो मेरी ज़िन्दगी की रोटी है ।

अगर तुम भाड़ा नहीं चुका सकतीं
काम की तलाश में निकल पड़ो
गरबीले डग भरती,

और याद रखो, मेरे प्यार, कि
मैं तुम्हारी निगरानी पर हूँ
और इकट्ठे हम
सबसे बड़ी दौलत हैं
धरती पर जो शायद ही कभी
इकट्ठा की जा पाई हो ।

पाब्लो नेरुदा

Saturday, December 20, 2008

रास्ट्रीय जांच एजेंसी

बड़े कयासों अरु तमाम बेकसूर लाशों के ढेर ने सरकार को आखिरकार मजबूर कर ही दिया, और अब आतंकवाद के खिलाफ भारत का नया कानून तैयार है। नाम- राष्ट्रीय जांच एजेंसी, १६ दिसम्बर २००८ है। कानून कुछ यूँ है कि संदिग्घ आतंकी को पुलिस हिरासत में एक महिना, न्यायिक करवाई में आधिकतम छह महीने, पुलिस के सामने दिए बयान को सही और आतंकी कामो के पैसे के जुटाव के लिए सजा-ऐ-मौत है। साथ ही गैर कानूनी गतिविधि अधिनियम १९६७ को भी संशोधित किया गया । अब गौर फरमाइए कि ये कानून सिर्फ उपाय भर है। ये कहता है कि अगर धमाका हुआ या चलो होने वाला हो,तो क्या कदम उठायेगे। बचाव का कहीं नामोनिशान नही है। अगर अमेरिकी कानून को देखे तो उसमे कही से कोई लूप होल्स नज़र नही आते। परिणाम भी हमारे सामने है, ९/११ के बाद कोई ब्लास नहीं हुआ। हमारे कानून में सीमा पार से आने वाले हर व्यक्ति कि गहराई से पूछताछ और उँगलियों के निशान लेने जैसा कोई प्रावधान नही है। तो भाई इस कानून को बचाव कानून कहने में कोई गुरेज नाहीं होना चाहिए। खैर, सरकार के कान पर जू तो रेंगा। ये कोई छोटी-मोटी बात नही है। अब बात आती है इसके पालन की। क्यूंकि पोता का हश्र सभी ने देखा है, किस तरह राजनितिक तुष्टिकरण के लिए इसका प्रयोग हुआ। आतंकवाद का फन तो तभी कुचला जा सकता है,जब नेता भी अपनी गन्दी राजनीति छोड़ एकजुट होंगे। नही तो बिना धमाको के भारत , का ख्वाब पुरा होने वाला नही है। आए दिन होने वाले विस्फोट का एक कारन और है की भारत की खुफिया एजेंसियां ,सैन्य विभाग और तमाम पुलिस बल एक चैन में नज़र नही आते। अलग-अलग ध्रुवों के रूप में नज़र आते हैं। इनमे कही से कोई लिंक ही नही नज़र आता। अगर ये भी आपस में जुड़ जाएँ तो मजाल नाहीं आतंकियों की, की भारत में पर (पंख ) भी मार सके।
neha gupta भोपाल

आतंकवाद बनाम देश की सुरक्षा

भारत १९९० से ही आतंकवा की आग में जल रहा है .तब से लेकर अबतक कई सरकारेंआई और गई .लेकिन समस्या जस की तस् बनी हुई है बल्कि अब यह खतरनाक रूपधारण कर चुकी है .१९७० का मीसा,१९८० का राष्ट्रीय रक्षा कानून,१९८७ काटाडा हो या फिर २००२ का पोटा कानून सब के सब अबतक निकम्मे साबित हुए हैं.सुरक्षा एजेंसियों का कहना ही क्या १९२० का इंटेलिजेंस ब्यूरो,१९६३ कासीबीआई हो या फिर रा ,देश की सुरक्षा में सेंध लगती रही और येटुकुर-टुकुर देखते रहे. इन्होने अपने आवारापन की हद कर दी. राष्ट्रीयसुरक्षा गार्ड (एन एस जी ) की स्थापना १९८४ में आतंकवाद से लड़ने के लिएकी गई थी,लेकिन यह सिर्फ़ दमकलकर्मी बनकर रह गई है जो आग लगने पर आगबुझाने का काम करती है. १९७० से लेकर २००८ तक भरत पर कुल ४२०० सौ हमलेहुए जिनमें १३००० से ज्यादा लोग मारे गए यानि ३६५ दिन लगभग ३६५ जानेंआतंकी पागलपन का शिकार हुईं. लेकिन इससे भी कहीं ज्यादा जानें घरेलुआतंकवादियों यानी की पुलिस प्रशासन ने ले ली ,जिस पर सरकार का भी ध्याननहीं गया. दोनों के जान लेने के तरीके अलग हैं एक तूफानी आग से एक झटकेमें मौत के घाट उतारता है तो दूसरा तहखानों में आम गरीब जनता को तड़पकरमारता है. अब तो रक्षक ही जब भक्षक बन जायें तो फिर क्या कहना. इसी बीचदेश में नक्सलवाद,सांप्रदायिक दंगे,क्षेत्रीयता काजहर,हत्या.बलात्कार,अपहरण राजनीती का अपराधीकरण भी खूब पहला-फूला है.परताज़ा हमले ने देश की जनता की बौखलाहट बढ़ गई है. अबतक देश ने जितने भीदहशतगर्दी के तांडव देखे हैं उसमें पकिस्तान और बांग्लादेश का ही हाथ रहाहै ये सभी जानते हैं. और हमारे नेता हैं की अपनी सहनशीलता का डंका दुनियाभर में बजवा रहे है कितने महान है हम ये सबको बता रहे हैं . शिवराजपाटिल,आर.आर.पाटिल और विलास राओ देशमुख की विदाई हो गई वहीं आनन्-फाननमें सरकार ने राष्ट्रीय जांच एजेन्सी (एन.आई.ऐ.) बनानी पड़ी जिसके लिए गैरकानूनी गतिविधियाँ उन्मूलन अधिनियम,१९६७ में संशोधन करना पड़ा. यहाँ सवालयह उठता है की क्या वैश्विक मंच पर आतंकवाद का रोनारोने,गृहमंत्री,वित्तमंत्री,मुख्यमंत्री बदल देने और नै जांच एजेन्सीगठित कर देने से क्या आतंकवाद ख़त्म हो जाएगा तो जवाब हमारे पास है नहीं.
सबसे पहले ४०९६ किलोमीटर लंबा भारत-बंलादेश सीमा,३२६८ किलोमीटर लंबाभारत-पाकिस्तान सीमा,भारत-नेपाल सीमा की पुरी तरह बदेबंदी,तथीय इलाके कीसुरक्षा को बाध्य जाए, विदेशी नागरिक पहचान कानून को सख्त बनायाजाए,आंतरिक सुरक्षा को और फुर्तीला और जांच एजेंसियों को और मुस्तैदबनाया जाए जन जागरूकता फैलाई जाए तभी दहशतगर्द रुपी भस्मासुर से निपटा जासकेगा वरना बीएसऍफ़,आईटीबीपी,सीआईएसऍफ़,सीआरपीऍफ़, होमगार्डस,वायुसेना,जलसेना,थलसेना के रहने का कोई मतलब नही रह जाएगा. कबतक हमअमेरिका,ब्रिटेन,फ्रांस के सरपरस्त बने रहेंगे. आख़िर कबतक हम अपना दुखडादुनिया के सामने रोते रहेंगे. इससे चीन, पाकिस्तान,बांग्लादेश प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से हमारे ऊपर लगातार हावी हो रहे हैं और हम चुपचाप सहनकर रहे हैं. अब वक्त आ गया है की हम मुहतोड़ जवाब दें वरना देश कीएकता,अखंडता और विकास की गति को पटरी से उतरने से कोई नही बचा पायेगा. ओमप्रकाश , भोपाल

Wednesday, December 17, 2008

हँसे या रोये

हाल-फिलहाल दो रिपोर्ट आयीं. ये दोनों रिपोर्ट देश के आर्थिक विकास में फर्क डालती हैं. पहली के ऊपर सीना ठोका जा सकता है तो दूसरी खून के आसूं रुलाने वाली है. अब पहली रिपोर्ट यूँ है कि देश कि शीर्ष १० कम्पनियाँ इस मंदी में भी बंसी बजा रही हैं. इन्हे ५२६२१ करोर का फायदा हुआ है. ऐसा लगता है कि इन कंपनियों ने मंदी के पहन को कुचल दिया है. अब बेचारी मंदी कराह रही है. वहीं राष्ट्रीय आपराध आकडे ब्यूरो की रिपोर्ट कहती है पिछले साल १६६३२ किसानो ने ख़ुद को मौत के मुंह में धकेल दिया. ४६ किसान हर दिन आत्महत्या का घूंट पी रहे हैं. सबसे ज़्यादा मौतें १९९७ में १८२९३६ हुयीं. इस दुखद दौड़ में महाराष्ट्र (४२३८) सबसे आगे है. जिसकी राजधानी पैसों की नगरी कही जाती है. जहाँ देश के नायब अमीरचंद अपना बसेरा बसाये हैं. गोवा, मणिपुर जैसे ५ राज्यों ने इस मामले में अपनी बेदाग छवि बना राखी है. एक तरफ हमारी कम्पनियाँ वैश्विक स्तर पर झंडे गाड़ रही हैं, वही हमारी कृषि आनाथ हो गई है. क्या इस ५२६२१ करोर में उन किसानो का कोई हक नही, जिनकी पीठ पर ही फायदा बरसाने वाली वट वृक्ष टिकी हैं।

नेहा गुप्ता, भोपाल.

Friday, December 12, 2008

हाँ वह मेरा बेटा है .....


मुंबई हमलों के सिलसिले में भारत में गिरफ़्तार किए गए एकमात्र चरमपंथी मोहम्मद अजमल अमीर क़साब के पिता ने पाकिस्तान के प्रतिष्ठित समाचारपत्र 'डॉन' से बातचीत में स्वीकार किया की मुंबई के आतंकवादी हमलों में पकड़ा गया अजमल कसाब उन्ही का बेटा है।

काफ़ी आहत दिख रहे अमीर कसाब ने कहा की, "पहले कुछ दिन तो मैं मानने को तैयार नहीं था, मैं ख़ुद से कहता रहा कि ये मेरा बेटा नहीं हो सकता, अब मैंने मान लिया है।" इससे पहले ही भारत के दावों की पुष्टि करते हुए सुरक्षा परिषद् और फिर पाकिस्तान सरकार ने लश्कर ऐ तैयबा के सियासी मोर्चे जमात उद दावा पर प्रतिबन्ध लगा दिया था। हालांकि कुछ दिन पहले बी बी सी के पाकिस्तान संवाददाता ने फरीदकोट जा कर इस बात की शंका जताई थी किअजमल इसी गाँव का रहने वाला है पर आज इस बात की भी पुष्टि होने से पाकिस्तान पर दबाव बढ़ गया है। अजमल के पिता ने असहज होते होते हुए भारी मन से डॉन के संवाददाता को बताया "सच यही है कि मैंने अख़बार में जो तस्वीर देखी है वह मेरे बेटे अजमल की ही है." इससे पाक मीडिया के उन दावों की भी पोल खुल गई है जिसमे उन्होंने लगातार भारत को ही हमलों का साजिश कर्ता बताया था।

Thursday, December 11, 2008

सत्ता का उलट फेर

चुनाव प्रचार के दौरान नेताओं ने जनता के घर खूब चक्कर काटे. विनती भी की,भीता वोट ज़रूर दीजियेगा. आख़िर जाती का भी तो सवाल है. बड़े कयासों के बाद बेचैनी ख़त्म हो गई. परिणाम आ गया. जनता ने इज़हार कर दिया. कौन उसके भावनाओ को समझते हुए वादों को निभाएगा. रमन, शीला, शिवराज पर सत्ता फिर मेहरबान हुई तो राजस्थान के लिए बसुन्धरा राजे सोच रही हैं कि, जाने क्या बात हुई, लोगों का भरपूर प्यार नसीब न हुआ. साथ ही जाती को आधार बनने वाले और दागियों के मुंह पर जनता ने करार थप्पड़ मारा है. एक बात जो गौर फरमाने वाली है, वो ये है कि कांग्रेस ने जनता से अपना रिश्ता मजबूत किया है, तभी टी मिजोरम और राजस्थान में उभर आई. दिल्ली कि तो बात ही छोडिये. हलाकि बीजेपी ने छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में कमल को खिला दिया है. अगर इसे तख्त-ऐ-ताउस का सेमीफाइनल कहा जाए तो होने वाला महासंग्राम बड़ा ही दिलचस्प होगा. कौन बनेगा देश का सरताज? ये अभी जनता के तिलस्मी मंजूशे रूपी मन में बंद है. इन चुनाव परिणामो से तो एक बात साफ नज़र आती है कि जनता राज्य और केंद्रीय सत्ता को अलग-अलग चश्में से देखती है. तभी तो आतंकवाद और मंहगाई जैसे मुद्दे बैकफुट पर नज़र आए. होने वाले रास्ट्रीय राजनीति के दंगल में बड़े-बड़े सुरमा अपनी किस्मत आज्मयेगे. साथ ही ये भी सोच रहे है कि कौन सी रागिनी बिखेरी जाए, जो जनता को भाए और सत्ता का स्वाद चख लिया जाए.
नेहा गुप्ता,भोपाल.

Wednesday, December 10, 2008

वैश्वीकरण की माया

वैश्वीकरण से मतलब है जन,धन,राजनितीक -सांस्कृतिक,आर्थिक क्रियाओं का दुनिया के देशों में बेरोकटोक प्रवाह. और इसका लक्ष्य है दुनिया के देशों का एक सामान विकास. उदारीकरण,निजीकरण,विनिवेशीकरण,कारपोरेटीकरण इसी का एक हिस्सा है.लेकिन आज हमें भूमंडलीकरण का बिगडा हुआ रूप देखने को मिल रहा है. वैश्वीकरण में पूंजी का महत्त्व होता है.कहने को हम समाजवादी देश है लेकिन १९९० के दशक में हमने भी इसी मॉडल को अपनाया और आज अपना और भी तेजी से इस भूमंडलीकरण के मायाजाल में फंसता नजर आ रहा है. अपने भारत में वैश्वीकरण का मतलब है सेक्स,सेंसेक्स और मल्टीप्लेक्स. छोटे होते कपड़े,मेट्रो ट्रेन की दौड़.मल्टीस्टोरी बिल्डिंग ,मॉल,सेज,माँ को mom ,पिता को डैड कहना,तेज़ रफ़्तार से दौड़ती ज़िन्दगी ये सब कुछ तो वैश्वीकरण की माया है वहीं अमीरी-गरीबी की खाई,बदहाल होती खेती, आत्महत्या करते किसान,भूके मरते लोग, और भीख मांगते बच्चे,मंदी की मार, हत्या,बलात्कार ये भी भूमंडलीकरण का ही माया है. दरअसल इसमें गलती इस मॉडल को अपनाने वाले इसके पैरोंकारों का है जिन्होंने राष्ट्र की स्थिति से ठीक से तालमेल नहीं कर पाये. अचानक सबके लिए बाज़ार को खोलना राष्ट्र जनता पचा नहीं पी क्योंकि ८५ प्रतिशत आबादी गरीबों,अनपढों,देस मध्यमवर्गीय परिवारों का है जो अपनी संस्कृति, सामजिक-आर्थिक परिस्थितियों और पश्चिमी सभ्यता के चक्रव्यूह और उधेड़बून में फंसे हुए हैं.शायद यही वजह है की भूमंडलीकरण के १८ साल बाद भी विकास की स्थिति कुछ खास नही सुधरी है. हाँ इतना जरुर हुआ है की गरीब देस गरीबी भी ग्लोबल हो गई है. देखना दिलचस्प होगा की मंदी के इस बयार के बावजूद वैश्वीकरण से गलबहियां करते हुए हम विकसित होते हैं या फिर हमें अपना घरेलु ढांचा ही मजबूत करना होगा. एक बात तो तय है भूमंडलीकरण से देस का विकास हो न हो लेकिन लोगों के तन-मन का पश्चिमीकरण इससे जरुर हो गया है . ओम प्रकाश (एम्.ऐ .बी. जे ) एम्.सी.यु ,भोपाल

Tuesday, December 9, 2008

गीतों भरी शाम ..... कुर्सी की मातमपुर्सी के नाम !

कल पाँच राज्यों के चुनावी नतीजे आए और कईयों की पतलूनें ढीली हो गई......लगा की क्यों न इन लोगों को कुछ गीत समर्पित किए जाएँ तो चलिए इनके अरमानो को कुछ नगमों से श्रद्धांजलि दे दी जाए !

उम्मीद है कि आज का फौजी भाइयों का गीतों भरा फरमाइशी कार्यक्रम आपको पसंद आएगा। आज के गीतों की फरमाइश की है दिल्ली से शीला दीक्षित ने, भोपाल से शिवराज ने, जयपुर से अशोक गहलोत ने, रायपुर से रमन ने और आइजोल से ललथनहाव्ला ने .......


विजय कुमार मल्होत्रा(दिल्ली )

तडपाए तरसाए रे ....
सारी उम्र रुलाये रे ....
प्यार मेरा .......
दिल्ली की कुर्सी ....!!

दिग्विजय सिंह ( मध्य प्रदेश )

ये दुनिया ....ये महफ़िल मेरे काम की नहीं .....!
किसको सुनाऊ हाल दिले बेकरार का, बुझता हुआ चराग हूँ अपनी मज़ार का
ऐ काश भूल जाऊं मगर भूलता नहीं किस धूम से उठा था जनाजा प्रचार का .....

वसुंधरा राजे (राजस्थान)

दिल के अरमां आंसुओं में बह गए....
हम तो बस कैटवाल्क करते रह गए .......
शायद उनकी आखिरी हो मांग ये
बागियों की मांग सहते रह गए
दिल के अरमां आंसुओं में....

अजित जोगी (छत्तीसगढ़)
ये दौलत ये तख्तों ये ताजों की दुनिया
ये सत्ता के दुश्मन चुनावों की दुनिया.....
ये ३ रुपये के चावल के वादों की दुनिया
चावल के चुनावी पुलावों की दुनिया
ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है.....
ये दुनिया अगर.....

जोरामथांगा (मिजोरम)
कभी ख़ुद पे कभी हालात पे रोना आया
परिणाम निकले तो फिर औकात पे रोना आया
हम तो जीते थे और थे भूल गए जनता को
आज जनता से पड़ी लात पे रोना आया
कभी ख़ुद पे कभी हालात पे ......

साथियों तो ये था आज का फरमाइशी प्रोग्राम ....अगले किसी ऐसे ही मौके पर फिर मिलेंगे तब तक के लिए शब्बा खैर !

***********##***********

Monday, December 8, 2008

दिग्गज हारे चुनाव, जीती जनता !

विधान सभा चुनावों में जनता ने ऐसा कमाल किया है किबड़े बड़े दिग्गज धूल चाट गए हैं, नतीजे भी कयासों से बिल्कुल उलट तो नहीं आए पर फालतू मुद्दों की हार ज़रूर दिखाते हैं। राजधानी दिल्ली में एक बार फिर कांग्रेस की सरकार बनना सुनिश्चित हो गया है तो मध्य प्रदेश में भी निजाम बदलने के आसार नहीं हैं.....यहाँ भाजपा पूर्ण बहुमत की ओर है। राजस्थान में भाजपा को तगड़ा झटका लगा है और कांग्रेस सरकार बनाने के लिए आवश्यक मतों को प्राप्त करती दिखती है। डॉक्टर रमन सिंह की स्वच्छ छवि फिर काम कर गई है और चाउरवाले बाबा एक बार फिर मुख्यमंत्री की गद्दी पर बैठेंगे।
इन चुनावों में कई बड़े बड़े दिग्गज धूल चाट गए हैं। सबसे बड़ा उलटफेर हुआ है उमा भारती की हार से, आश्चर्यजनक रूप से उमा भारती अपने गृह विधानसभा क्षेत्र में भाजपा के अखंड प्रताप सिंह से हार गई हैं, उधर छत्तीसगढ़ में विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष महेंद्र करमा भी अपनी सीट गँवा बैठे हैं।

पाक की सच्चाई..............

पाक पर हुए हमले दरअसल उसी का सेल्फ अटेक प्रोगराम है वैसे भी उसे अपने फौजी या दूसरे लोगों की चिंता तो है नहीं जो वो इतना घिनौना काम नहीं करेगा हो सकता है ये बात भारत के कुछ सोकाल्ड सेकुलरों के गले ना उतरे मगर इसमें कोई संदेह भी नहीं कि पाक का पेशावर में हुआ हमला कोई आतंकी हमला नहीं बल्की सेल्फ प्रोमोटेड अटेक है जो उसने विश्व विरादरी को झांसा देने के लिए किया है। भारत देश अजूबा यूँ ही नहीं है यहां के लोग खास कर वो सेकुलर्स सबसे ज़्यादा मेरी इस बात से नाराज़ होंगे जो सेकुलर का नारा लगाते-लगाते कब शरहदे पार कर पाक फरस्ती करने लगते हैं पता भी नहीं चलता क्योंकि वे अपने आप को इतना बड़ा सेकुलर मानते हैं कि देश दुनिया में एक ही सच है वो है सेकुलर जो वे अनुसरण करते हैं। खैर मेरा मक़सद इस पचड़े में पड़ कर मुख्य बात से आपको भटकाना नहीं है मूल बात है पाक के इस घिनौने कृत्य की तरफ आपका ध्यान आकर्षित कराना। दरअसल आने वाले समय में ऐंसी आवाज़ें उठेंगी कि मुम्बई में पाक का हाथ बता कर भारत सरकार ने सुधरते रिश्तों को दांव पर लगा दिया है ये वही लोग कहेंगे जो इस देश के भीतर सेकुलर कहलाते हैं मतलव साफ है कौन पूछा नहीं जाना चाहिये।.....पाक की इस हरक़त पे किसी को अगर एतराज़ हो तो वह सीधे अपनी आपत्ती लगा सकता है आखिर ये देश धर्मनिरपेक्ष जो है। हाँ भई मैं आप ही से कह रहा हूँ...जी हाँ लगा सकते हो आपत्ती पाक की बुराई करने का मतलव यहाँ के मुस्लिमों की बुराई जो है।..........ऐंसा कोई कार सेवक ,बजरंगी,संघी,शिवसैनिक, या अभिनव भारत का आदमी नहीं मानता बल्की ये सोकाल्ड सेकुलरिस्ट ही ऐंसा सोचते और मुस्लिम भाइयों को भी ऐंसा सोचने मानने को उलूल-जुलूल तर्क देते रहते हैं, जो यहाँ के अल्प शिक्षित अल्पसंख्यकों के मन में घर कर जाते हैं। भारत की हर समस्या का समाधान यहाँ के कमतादादियों के पास है।

Saturday, December 6, 2008

६ दिसम्बर पर कैफी आज्ज़मी की एक नज़्म -

राम बनवास से जब लौटके घर में आये
याद जंगल बहुत आया जो नगर में आये
रक़्सेदीवानगी आँगन में जो देखा होगा
छह दिसंबर को श्रीराम ने सोचा होगा
इतने दीवाने कहाँ से मेरे घर में आये

जगमगाते थे जहाँ राम के क़दमों के निशां
प्यार की कहकशां लेती थी अँगडाई जहाँ
मोड़ नफ़रत के उसी राहगुज़र से आये

धर्म क्या उनका है क्या ज़ात है यह जानता कौन
घर न जलता तो उन्हें रात मे पहचानता कौन
घर जलाने को मेरा लोग जो घर में आये

शाकाहारी है मेरे दोस्त तुम्हारा ख़ंजर
तुमने बाबर की तरफ़ फेंके थे सारे पत्थर
है मेरे सर की ख़ता ज़ख़्म जो सर में आये

पाँव सरयू में अभी राम ने धोये भी न थे
कि नज़र आये वहाँ ख़ून के गहरे धब्बे
पाँव धोये बिना सरयू के किनारे से उठे
राजधानी की फ़िज़ा आयी नहीं रास मुझे
छह दिसंबर को मिला दूसरा बनवास मुझे !

राजनीती,राजनेता और विकास

कहते हैं राजनीती में कुछ भी ग़लत नही होता और आज के भारतीय राजनीती मेंतो बिल्कुल नैतिकता बची ही नहीं है। चारों तरफ़ अनैतिकता,अधर्म,भ्रस्ताचार का बोलबाला है। राजनेताओं के अन्दर देशप्रेम की भावना कूट-कूटके भरी होती थी अब ये गुजरे जमाने की बात हो चुकी है। १९९० तक तो भारतीयराजनीतिज्ञों की स्थिति थोडी ठीक भी थी लेकिन उसके बाद के १८ वर्षों मेंराजनीती का पुरा परिदृश्य काफी तेज़ी से बदला. हमने आर्थिक उदारीकरण काचोल पहना,आरक्षण की व्यवस्था की गई,बाबरी मस्जिद ढही,जवाब में आतंकवाद काअँधेरा साम्राज्य कायम हुआ, क्षेत्रवाद की राजनीती बढ़ी,दंगे-फसादबढे,अमीरी-गरीबी की खाई बढ़ी,भुखमरी कुपोषण बढ़ा,हत्या और अपराध बढे,बाहरीऔर आंतरिक सुरक्षा तार-तार हुआ,६२ सालों में पहली महिला राष्ट्रपति भीबनी और इंडिया और भारत भी बना. और इन सबने मौका दिया हमारे राजनेताओं कोखूब लूटने-खसोटने का,जातिवाद'धर्मवाद,क्षेत्रवाद की राजनीती कर वोटबटोरने का. राजनीती का अपराधीकरण हो चुका है.दुनिया में सबसे ज्यादाअपराधियों की शरणस्थली बन चुकी है हमारी विधायिका. पूरे देश मेंधार्मिक,राजनितिक उन्माद पुरे उफान पर है और उसमें मारी जा रही बेकसूरजनता. हमारे नेताओं में तनिक भी बेशर्मी बची ही नही है तभी सब के सब अपनाआत्मसंतुलन खो बैठे हैं और नजाने क्या-क्या उटपटांग बोलते फिर रहे हैजिससे जनभावनाएं आहत हो रही हैं.राजेंद्र प्रसाद,सर्वपल्लीराधाकृष्णन,जयप्रकाश नारायण,लालबहादुर शास्त्री,सरदार पटेलऔर अब्दुल कलामजैसे विचारकों वाले इस देश में आज एक भी योग्य नेता नहीं है जो राजनितिकस्वार्थ से ऊपर उठकर देशहित,जनहित में काम करे. ऐसे घटियाराजनितिक,सामाजिक संस्कृति के बढ़ने से देश को आर्थिक,सामाजिक-राजनितिकरूप से काफी ज्यादा नुक्सान हो रहा है. नियमों-कानूनों की धज्जियाँ उडाईजा रही है. दल बदल कानून फेल हो गया है. ऐसे में आज जरुरत है स्वास्थ्यराजनितिक विकास की, मानवीयता के विकास की और जब इसका विकास होगा तभीगावों-और शहरों का विकास होगा और जब इन सबका विकास होगा तो पूरे भारत काविकास होगा. इसलिए सबसे पहले लोगों को शिक्षित किया जाए,उनको रोजगारमुहैया कराई जाए और सभी के बीच राष्ट्रप्रेम की भावना विकसित की जाए तभीहम अब्दुल कलाम साहब के सपनो का भारत वर्ष २०२० तक बना पाएंगे वरना इसदेश को इंडिया और भारत के बीच विभाजित होने से कोई नही बचा पायेगा. ओम प्रकाश

आतंकवाद पर एक नज़्म

मैं सोंचता हूँ.....
विस्फोट के बाद ।
मुल्क को लगी ,
चोट के बाद ।
बेरहम दहशतगर्द !
कितना कुछ कर डालते हैं ,
और अपने गुनाह का बोझ ,
खुदा के सर डालते हैं ।
खुदा अपने आप को ,
कितना बेबस पाता होगा !
ऐसे खुदापरस्तों पर ,
किस कदर शर्माता होगा !

Thursday, December 4, 2008

एक न्यूज़ चैनल की ब्रेकिंग न्यूज़ का स्वरुप देखिये

दो दिन पहले की बात है , एक चैनल केरल के मुख्यमंत्री अच्युतानंदन के शहीद उन्नीकृष्णन पर दिए गए बयान पर भाकपा के वरिष्ठ नेता अतुल अनजान का फोनों कर रहा था , घर के बाहर से लौटाए जाने के बाद अच्युतानंदन ने जो बयान दिया उस पर अतुल अनजान ने अपनी बात कुछ इस तरह से रख्खी ( ध्यान दीजियेगा शब्दों पर ) जब किसी के जवान बेटे के साथ इस तरीके ( मृत्यु) की घटना होती है , तो स्वाभाविक रूप से माँ-बाप अपना आपा खो बैठते हैं और अपने क्षोभ पर काबू नही रख पाते ..........लेकिन इसको लेकर मुख्यमंत्री का बयान अफ़सोस जनक है ........... अनजान अपनी बात पूरी कर पाते इससे पहले ही एंकर उनसे उलझ पड़ी की अनजान साहब यानी आपका कहना है की संदीप के पिता ने अपना मानसिक संतुलन खो दिया है ..... उसके बाद तो लगातार एंकर इसी बात को दोहराती रही और बेचारे अनजान बार बार यही कहते नज़र आए की आप मुझे भी तो बोलने दीजिये ........और अंत में उन्होंने खीझ कर फ़ोन काट दिया लेकिन तब तक चैनल पर ब्रेकिंग न्यूज़ के तौर पर फ्लैश हो चुका था - "मानसिक संतुलन खो बैठे हैं संदीप के पिता , भाकपा नेता अतुल अनजान का बयान" एंकर साहिबा आपा खोने और मानसिक संतुलन खोने के भावार्थ में अन्तर ही नही समझ पायीं , लेकिन उन्होंने एक न्यूज़ तो ब्रेक कर ही दी ..........

Wednesday, December 3, 2008

अब डरने लगा हूँ

पहले डरता नही था पर अब डरने लगा हूँ ,
रोज़ तिल तिल कर मरने लगा हूँ ,
रोज़ बस से आफिस जाता हूँ ,
इसलिए आस पास की चीज़ों पर ध्यान लगता हूँ
सीट के नीचे किसी बम की शंका से मन ग्रसित रहता है
कभी कोई लावारिस बैग भ्रमित करता है ।
ख़ुद से ज़्यादा परिवार की फ़िक्र करता हूँ
इसलिए हर बात मे उनका ज़िक्र करता हूँ
रोज़ अपने चैनल के लिए ख़बर करता हूँ
और किसी रोज़ ख़बर बनने से डरता हूँ
मैं एक आम हिन्दुस्तानी की तरहां रहता हूँ
इसलिए रोज़ तिल तिल कर मरता हूँ
हालात यही रहे तो किसी रोज़ मैं भी
किसी सर फिरे की गोली या बम का शिकार बन जाऊँगा
कुछ और न सही पर बूढे अम्मी अब्बू के
आंसुओं का सामान बन जाऊँगा।
इस तरह एक नही कई जिनदगियाँ तबाह हो जाएँगी
बहोत न सही पर थोडी ही
दहशतगर्दों की आरजुओं की गवाह हो जाएँगी ।
इसीलिए मैं अब डरने लगा हूँ
हर रोज़ तिल तिल कर मरने लगा हूँ ,तिल तिल कर मरने लगा हूँ ।

Tuesday, December 2, 2008

वक़्त की पुकार......

दहशतगर्दो के मंसूबे पानी में मिल जाने हैं
हम उनकी औकात से वाकिफ , वो न हमको जाने हैं
हम वो हैं, जो देश की खातिर जीते हैं, और मरते हैं
वक़्त सही है , दुश्मन के अब होश ठिकाने लाने है
हिन्दू,मुस्लिम,सिख,ईसाई सबको हिंद से प्यार बहुत
जो भी दुश्मन इसको देखे वो सब मार गिराने है
मिलकर अपने देश को यारों , सूरज जैसा चमका दो
दहशत की दुनिया से बच कर गुलशन यूँ तामीर करो
ज़ुल्मत को दुनिया से मिटाओ , जालिम को ज़ंजीर करो.

(मुल्क में नाजुक हालात के मद्देनज़र भाईचारगी ही सबसे अहम है-
..........आपका अलाउद्दीन -अय्यूब )

शूटर और शूटर ......

अभी कुछ देर पहले एक ई मेल मिली है......इसे तुंरत प्रकाशित कर रहा हूँ !

एक ओलम्पिक शूटर के स्वर्ण जीतने पर सरकार उसे ईनाम के तौर पर 3 करोड़ रुपये देती है। ( सनद रहे कि वह शूटर पहले ही करोड़पति है ! )



एक और शूटर आतंकवादियों से लड़ते हुए मर जाता है .... ( देश और हमारी रक्षा के लिए ) और सरकार उसे केवल 5 लाख रुपये देती है !










Monday, December 1, 2008

यह सब तकलीफदेह है....

यह निहायत ही तकलीफ की बात है की जब जब हमने अपने ब्लॉग पर आतंकवाद के ख़िलाफ़ कोई सार्थक बहस शुरू की तब तब वह हमेशा मुद्दे से भटक गई। यहाँ तक की आतंकवाद पर हर दायरे से ऊपर उठ कर बात करने की अपील करने वाले भी धार्मिक हो चले......
इस समय वाकई असहाय महसूस कर रहा हूँ ( शायद कुछ लोग यही चाहते हैं ! ) पर इतना स्पष्ट करना चाहूँगा किकुछ भी हो जाए CAVS संचार को धार्मिक राजनीति का अड्डा नहीं बनने दूँगा...हम पत्रकार हैं ...बेहतर होगा कि वैसा ही बर्ताव करें.....अब बस करिए
यह ब्लॉग किसी हिन्दू या मुस्लिम के दिल की भड़ास निकालने के लिए नहीं है .....मैंने पहले ही विनती की थी .... ना तो हम मुस्लिम लीग और जमायत के हिमायती हैं और ना ही किसी बजरंग दल या हिन्दू महासभा के !
हमें क्षमा करें हम निष्पक्ष पत्रकार है....किसी मज़हबी संस्था के मुखपत्र नहीं !
इसलिए आप सभी जो किसी धर्म विशेष की पैरवी करने अथवा किसी मज़हब के ख़िलाफ़ ज़हर उगलने की मंशा रखते हैं ..... आप कृपया इस ब्लॉग का प्रयोग ना करें .... आप इस काम के लिए व्यक्तिगत या सामूहिक अन्य ब्लॉग बनाने हेतु स्वतंत्र हैं ! कृपया हमें कुछ वाकई सार्थक करने दें .....
हम क्षमा प्रार्थी हैं किसी आपके मज़हबी उद्देश्यों में हम साधक नहीं बन सकते ! किसी ने कहा किसी धमकी न दें तो बन्धु यह प्रार्थना है...वैसे भी उग्रपंथियों ( किसी भी धर्म के ) के आगे एक आम आदमी केवल प्रार्थना ही कर सकता है !
इसीलिए हमने यह निर्णय लिया है कि हम इस प्रकार की किसी भी पोस्ट से अपनी छवि एक कट्टरपंथी ब्लॉग की नहीं बनने देंगे .....बेहतर होगा कि हम मुद्दों की बात करें......
वैसे भी मुल्क की ज़रूरत आज हिंदू या मुसलमान नहीं ....... हिन्दुस्तानी होना है !
क्षमाप्रार्थी
केव्स परिवार !
( हमारे पास लगातार प्रतिक्रियाएं और मेल आई जिसके फलस्वरूप यह प्रार्थना की जा रही है। CAVS की धर्मनिरपेक्ष छवि हम सभी के लिए ज़रूरी है। )

भारतीय खेती की दशा और दिशा

भारतीय खेती की दशा और दिशाखेती किसी देश के आर्थिक सामाजिक विकास में मील का पत्थर मन जाता है. औरइसके लिए जरुरी होती है एक अदद कृषि नीति की .आदिमकाल से लेकर आज़ादी सेपहले तक हम खाद्द्यानो के उत्पादन में अव्वल थे .विदेशों में हमारा अनाजभेजा जाता था और विश्व व्यापर में आज के मुकाबले हमारी भागेदारी भी बहुतज्यादा थी. लेकिन स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद पड़े भीषण सीखे आकाल ने देशको अन्न संकट की ओर धकेल दिया. कितने भूखे मरे जो अब भी मर रहे है . इसकेपीछे एक जिम्मेदार कृषि नीति का घोर आभाव है. हम आज भी अनाज की कमी सेजूझ रहे हैं . अब तक की कृषि नीतियां नियोजित लक्ष्यों को पाने में नाकामरही हैं जबकि इनका उद्देश्य रहा है उत्पादन को बढ़ाना,वैज्ञानिक कृषि कोबढ़ावा देना,किसानो की दशा सुधारना और इसके जरिये देश inclusive विकासकरना.लेकिन हो इसके thik उल्टा रहा है.किसान आत्महत्या कर रहा है, क़र्ज़के बोझ तले दबता जा रहा है. बाढ़, मानसून की अनिश्चितता ,और भीषण अकाल,सिंचाई सुविधाओं का आभाव असमय ही किसानों को यमदेव के पास पधारने के लिएमजबूर कर रहा है . देश में अबतक चार कृषि नीतियां :आज़ादी के बाद से १९९२तक, राष्ट्रीय कृषि नीति १९९२,२०००,२००७ लागू हो चुकी हैं.इससे पहले कृषिवैज्ञानिक नॉर्मन बोरलाग के नेत्रित्व में १९६६-६७ में हरित क्रांति होचुकी है जो उत्तरप्रदेश,पंजाब ,हरियाणा तक ही सीमित था ने देश के कृषिक्षेत्र में एक नया जोश भरा ,उत्पादन में वृद्धि हुई . दूसरे हरितक्रांति को लेकर हमारे नेता जो लोगों में गरमा-गरम बहसबाजी का दौर जारीहै. इससे पहले भी देश में लाल नीली,पीली और श्वेत क्रांति हो चुकी हैजिससे देश के किसानों की दशा में कुछ खास फर्क नहीं पड़ा है. हमारेभारतीय खेती की मुख्य विशेषता है लागत ज्यादा ,मुनाफा कम . शायद यही वजहहै की जीडीपी में खेती की कूल भागेदारी घटकर १८ प्रतिशत रह गई है और अगरयही रवैया रहा तो ११ वीं पंचवर्षीय योजना के ४ फीसदी कृषि विकास थर कोपाना ईद का चाँद देखने जैसा हो जाएगा .अगर कृषि नीति २००७ के लक्ष्योंभूमि-सुधार ,जल-प्रबंधन,किसानों को सामाजिक-आर्थिक सुरक्षा,इनके आय मेंबढोतरी,कृषि में सार्वजनिक निवेश को बढ़ावा और सहज क़र्ज़ मुहैया करानेके साथ-साथ एम्.एस स्वामीनाथन की अध्यक्षता में २००४ में गठित राष्ट्रीयकिसान आयोग के सिफारिशों पर अगर ध्यान दिया जाए तभी देश की बदहालीखुशहाली में बदल पायेगी वरना ऐसे आयोगों के गठन का फिर कोई मतलब नही रहजाएगा. इसलिए वक्त की नजाकत को समझते हुए आज कृषि के विकास को प्राथमिकतादेना,किसानो को आर्थिक-सामाजिक सुरक्षा उपलब्ध कराने,सहज ऋणदिलाना,तकनीकी प्रशिक्षण देना लाजिमी हो गया है वरना हमारा वार्षिकउत्पादन जो पिछले कई सालों से २१७ मिलियन टन के जो चक्रव्यूह में जो फंसाहै उसी में अटका रह जयेगा और हम हमेशा की तरह विदेशों से अनाज निर्यात कामुंह ताकते रह जायेंगे . Om Prakash (MABJ) Makhanlal Chaturvedinational University of Journalism, Bhopal.

गौर फरमाएं

मर रहे पिट रहे रो रहे हैं,
रोज विस्फोट अब हो रहे हैं।
टांग में टांग देखों फसांए,
गधे ये चैन से सो रहे हैं।

- सुभाष भदौरिया

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....