एक क्लिक यहां भी...

Monday, December 1, 2008

गौर फरमाएं

मर रहे पिट रहे रो रहे हैं,
रोज विस्फोट अब हो रहे हैं।
टांग में टांग देखों फसांए,
गधे ये चैन से सो रहे हैं।

- सुभाष भदौरिया

No comments:

Post a Comment

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....