एक क्लिक यहां भी...

Wednesday, December 31, 2008

देश एकजुट है

हमारे देश मैं यूँ तो आतंकवादी घटना कोई नई बात नही आए दिन हो ही जाती है। गोया आतंकवादी घटना कोई नोटिस करने जैसी चीज ही नही है ये कहना हमारे देश के उन जिम्मेदार राजनेताओं का है जिन्हें हम वोट देकर भइया आए हैं और नई चेतना लाये हैं ,भइया नही ये आंधी हैं हमरे क्षेत्र के गाँधी है। टाइप टाइप के नारे लगातेहैं और अंत मेभइया के जवाबों से अवाम का सीना छलनी होता है तो भइया के ठेंगे से। भोपाल सहर मैं एक गुंडा है उसका नाम बल्ली है, आरिफ अकील के लिए भोपाल मैं आरिफ नगर की झुग्गी झोपडी मैं वसूली करना उसका काम है। कुछ दिन पहले एक काम के सिलसिले मैं हमारी बात हुई तो उसने कहा "बहुत गोलियां चलाई है भाई,४५ मुकदमे हैं पे खुदा कसम एक बार बॉर्डर पे छोड़ दो तो कम से कम ८-१० को तो मार कर मरूँगा ये हमारेदेश के उन लोगों का कथन है जिन्हें हमारी सरकार , हमारी पुलिस, जनता सभी अपराधी कहती है और भइया तो भइया ही हैं
अगर देश का अपराधी वर्ग भी राष्ट्र सेवा के लिए इतना तत्पर है तो हम पीछे कैसे रह सकते हैं । हम जहाँ भी हैं जो भी हैं राष्ट्र के काम मैं समर्पित हैं और रहेंगे

No comments:

Post a Comment

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....