एक क्लिक यहां भी...

Monday, July 28, 2008

गौर फरमाएं !

ख़बरों का जाने कौन सा मेयार हो गया
कितने अजीब ढंग का अखबार हो गया
उसूलों की अहमियत से इंकार नही है
ज़्यादा अहम लेकिन यहाँ बाज़ार हो गया ...............'हिम लखनवी'

मेयार = मापदंड

1 comment:

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....