एक क्लिक यहां भी...

Monday, July 28, 2008

आतंक के रखवाले ........

सबसे पहले बंगलोर और अहमदाबाद में आतंक की बलि चढ़े लोगों को केव्स संचार की तरफ़ से श्रद्धांजलि ! अब ज़रा आपको बताऊँ की मैंने पोस्ट को ये नाम क्यूँ दिया ? २००६ में उत्तर प्रदेश सरकार नें सफ़दर नागौरी के ख़िलाफ़ राष्ट्र द्रोह का मुक़दमा वापस ले लिया था । वही नागौरी जो सिमी सरगना है और कुछ ही दिनों पहले इंदौर से पकड़ा गया है .... संसद पर हमले के दोषी अफज़ल गुरु को आज तक फांसी नही दी गयी है , कांग्रेस , पीडीपी ,और हुर्रियत के कुछ नेता खुले आम उसकी माफ़ी की बात कर चुके हैं । पोटा कानून के पक्ष या विपक्ष में मैं अपनी राय नही रख रहा , पर अगर उस क़ानून में कुछ खाम्मियाँ थीं तो उन्हें दूर करना था , न की पोटा को ही ख़त्म कर देना, अब अपनी बात , हम में से कितने लोग सार्वजनिक स्थलों पर संदिग्ध वस्तुओं या आदमियों की सुचना पुलिस को देते हैं , और आम आदमी पुलिस से डरता क्यूँ है ? अब आप बताएं की जिस देश में आतंक के इतने रखवाले मौजूद हों वहां आतंक क्यूँ नही पनपेगा ?

2 comments:

  1. yebhi sahi hai ! Safdar Nagauri ko Bahraich mein pakda gaya tha..... aur us par rashtrdroh kaa mukadmaa tha jo vapis le liya Mulayam Sarkar ne !

    ReplyDelete

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....