एक क्लिक यहां भी...

Tuesday, April 6, 2010

ममता की मेहरबानी

ममता बनर्जी ने आज स्टेशन पर पानी की बोतले ६ से ७ रूपए करने को कहा है. स्टेशन पर जहां पीने की कई टंकिया होती तो जरूर है पर पानी कितना साफ़ होता है और क्या व्यवस्था होती है ये भारतीय रेल का हर मुशाफिर जनता है.ऐसे में सहारा केवल पानी की बंद बोतले ही बनती है .गर्मी के इन दिनों तो इनकी उपयोगिता तो और बढ़ जाती है.ऐसे में कम हुए दाम आम जनता के लिए राहत  की बात होगी .पर जिस तरह से पहले बजट में आमदनी के कोई ढोस स्रोत नहीं देखे थे ऐसे में कम हुए दामो का भर भी केंद्र सरकार पर होगा.खैर  चाहे जो हो कम से कम आम जनता  को पानी तो जेब पर कम भार  दिए मिल ही जायेंगे.

1 comment:

  1. बढ़िया जानकारी,

    मगर जो ब्लैक होता है २० का ४० उससे ममता जी किस तरह निपटेंगी ?

    मुद्दा तो ये होना चाहिए था जितना प्रिंट है उस दाम पर पानी मिले जनता का असली भला तब होता :)

    ReplyDelete

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....