एक क्लिक यहां भी...

Monday, April 21, 2008

मिलेगी परिंदों को मंजिल एक दिन ............

''मुमकिन है की कुछ पलों के लिए राह में मुश्किलें आयें
पर वही हौसलामंद हैं जो उन्हें हँसते-खेलते पार कर जायें"

कैव्स मेरे लिए मसीहा साबित हुआ। इस माध्यम से मैंने वो सीखा जो शायद सिखाना किसी और के बस की बात नही थी। अभी भी बहुतों की ज़िंदगी को किनारा नही मिला है पर पूरी उम्मीद है की हमारी मेहनत और लगन अपना असली रंग दिखला पायेगी। मैं अपने सभी साथियों की अपार सफलता की तहे दिल से दुआ करती हूँ।

जिंदगी में हमेशा वो ही सफल होते हैं जो दूसरों से जलने और उनके काम में ताक़ झांक करने की जगह अपने पर विशवास रखते हैं साथ ही अपने कर्तव्य को पूरी लगन और निष्ठा से निभाते हैं। उम्मीद है की हम सब इस बात पर गौर करेंगे और अपनी ज़िंदगी के इन सिद्धांतों पर अमल कर पायेंगे।

No comments:

Post a Comment

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....