एक क्लिक यहां भी...

Tuesday, April 14, 2009

मंदी का दौर...

दौर-ऐ-मंदी तुझसे हम इस तरह डरने लगे
नौकरी को आए थे , इन्टर्न शिप करने लगे

कवि हिम

1 comment:

  1. sir chinta mat kijiye kuch samay ke baad sthiti sahi ho jayegi.....aur aapko job bhee mil jayegi..

    ReplyDelete

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....