एक क्लिक यहां भी...

Monday, November 10, 2008

विश्व विजेता हर बार भारत में पराजित हुए हैं...

अभी दफ्तर में एसैन्मेंट डेस्क पर ख़बर आई की भारत ने ऑस्ट्रेलिया को चित कर दिया और सीरीज़ पर २-० से कब्ज़ा कर लिया ..... तुंरत दिमाग में चन्द्रगुप्त मौर्या और सिकंदर महान की लड़ाई की कहानी घूम गई ! याद आया की अरे ये तो इतिहास रहा है की विश्व विजेता दुनिया में इतराते हैं और भारत में आ कर धाराशायी हो जाते है। फिलहाल कुंबले और धोनी के इस संयुक्त उपक्रम ने ऑस्ट्रेलिया का दुबारा मान मर्दन किया है, इससे पहले भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया में ही उसकी टीम को धूल चटाई थी।
फिलहाल पहले हाल मैच का तो मैथ्यू हेडन और साइमन कैटिच ने बेहद आक्रामक अंदाज़ में पाँचवें दिन की शुरुआत की पर ईशांत शर्मा ने शानदार तेज़ गेंदबाज़ी का नमूना पेश करते हुए कैटिच और माइकल क्लार्क को पैवेलियन भेज दिया। उधर अमित मिश्रा ने कप्तान पोंटिंग की गिल्लियां बिखेर दी जब उनको महज आठ के व्यक्तिगत स्कोर पर रन आउट कर दिया। पर इसके बाद हेडन और माइक हसी ने धुंआधार बल्लेबाजी चालू कर दी और भारतीय टीम संकट में दिखी पर धोनी की चतुराई के क्या कहने कि उन्होंने अमित मिश्रा को गेंदबाज़ी की कमान सौंपी और उन्होंने हसी को 19 के निजी स्कोर पर स्लिप में कैच करा दिया उधर भज्जी ने हैडेन को ७७ पर पगबाधा मारा और उसके बाद जो हुआ वो इतिहास है......ऑस्ट्रेलिया २०९ पर ही ढेर हो गई और भारत ने आखिरी टेस्ट १७३ रनों से जीत लिया।

हरभजन सिंह ने मारक गेंदें फेंकते हुए ४ विकेट लिए, अमित मिश्रा भी ज्यादा पीछे नही रहे उन्होंने ३ विकेट लिए तो इशांत शर्मा को २ विकेट मिले। ट्रोफी कुंबले ने उठाई।

फिलहाल विदाई के लिए गांगुली और कुंबले के लिए इससे बेहतर मौका नही था कि २९ साल बाद टीम ने २-० से टेस्ट श्रृंखला जीती है......तो भारतीय टीम के शूरवीरों को बधाई !


3 comments:

  1. mayank tum kuchh jyada hi utsahit ho jate ho yahee tumharee samasya hai.... sikandar chandrgupt se hara tha ye tumse kisne kah diyaa... jara itihas ko theek se yad karo dost?????

    ReplyDelete
  2. sikandar to vapis chala gaya tha par uska senapati Selukas to haara tha.....vishvvijay abhiyaan to vahi tha na !

    ReplyDelete
  3. ab jin logon ko zaankaaree naheen hai wo shri thakur ji kee jankaaree kaa intzaar kar rahe hain.
    ek achhee see kahanee bhee dee ja saktee hai chandragupt maurya aur sikander/selukas kee ladaai par.
    bharat ek baar fir gaurvanvit mahsoos karegaa.

    ReplyDelete

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....