एक क्लिक यहां भी...

Thursday, November 27, 2008

आओ बैठे बात करें कुछ हल निकालें

और लो ये रहा एक और अनदेखी का नतीजा कब तक रहेंगे हम चुप कब तक कहेंगे मुस्लिम हिंदू आतंक अब तो हद हो जानी चाहिए इस पर जानते हैं हम बहस के अलावा कुछ नहीं कर सकते लेकिन इस ब्लॉग मंच के माध्यम को इस बहस के लिए स्वस्थ और बेहतर मनाया जा सकता है क्योंकि यहाँ केव्स के सबसे ज्यादा सक्रिय लोग हैं। मगर मेरे दोस्तों बहस स्वस्थ ही करना अपने विचार मैं राष्ट्र और सिर्फ राष्ट्र रहना चाहिए संक्रीर्ण जात,पात,वर्ग,भेद से परे चर्चा हो ऐंसी आशा के साथ मैं।

1 comment:

  1. बहुत दुखद हादसा है। सच है जिन लोगो के परिवार वाले मारे गए होगें उन का यह जख्म कभी नही भरेगा।कुछ कहते नही बन पा रहा।

    ReplyDelete

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....