एक क्लिक यहां भी...

Saturday, March 6, 2010

हिन्दू

पीपल की
डाल काटना बहुत ज़रूरी था
सो उसने एक मुसलमान भाई को बुला लिया

इस तरह उसने
संकट भी टाल दिया
पाप मढ़ दिया दुसरे के मत्थे
और अपना धर्म भी बचा लिया
खलु खल हिन्दू !

ऐसा ही कुछ करते होंगे और धर्म के लोग
कटती होगी डाली कोई मरता होगा दीन....... !


अष्टभुजा शुक्ला की कविता ..

3 comments:

  1. बहुत ही उम्दा सोच है हिन्दुओं के बारे में! बहुत अच्छे.

    ReplyDelete
  2. यार तुम्हारी कविता मेरी समझ नही आयी है जरा खुल कर लिखो ताकि मै भी कुछ कमेन्ट लिख सकूं

    ReplyDelete

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....