एक क्लिक यहां भी...

Thursday, August 6, 2009

जोर्ज पर सवाल नही ..
कल ख़बर पढ़ी की जोर्ज फर्नांडिस ने राज्य सभा के मेंबर के तौर पर शपथ ली है। इस दौरान वो किसी वो किसी को पहचान नही पा रहे थे.दुसरो के सहारे से चल रहे थे। कुल मिला कर उनकी तबियत बहुत ख़राब है और वो शायद अब लगभग सक्रिय राजनीती से दूर ही रहेंगे। आज एक न्यूज़ चॅनल पर उनके राज्य सभा में जाने पर सवाल उठाये गए थे । तर्क था की वो अब सांसद बन क्या करेंगे ....
मेरा कहना है की बाकी के स्वस्थ सांसद क्या कर लेते है, सिवाय हल्ला गुल्ला करने के। जोर्ज साहब ने पूरा जीवन साफ सुथरी राजनीती में खपा दिया। आज के ज़माने में जब एक सांसद बनने के बाद लोगो के पास लाखो की प्रोपर्टी हो जाती है उस समय जोर्ज के पास देल्ही में एक मकान नही है। है। ५ साल पहले जब उन्होंने जब फ़िअत को बदल कर मारुती स्विफ्ट से चलने लगे थे तो इसी चॅनल उसे भी ख़बर बना दिया था। जब नेता देश का नही जाती का होता तब जोर्ज को गरीबो का नेता मन जाता है। अपनी ही धरम की सोनिया गाँधी का विरोध किया।
इमर्जेंसी में लोकतंत्र को बचाए रखने के लिए संघर्ष किया। किसी भी ग़लत तरीके से पैसे नही बनाया।
ऐसे नेताओ को क्यो नही सांसद में जाना चाहिय ... कम से कम जीवन भर की इमानदारी के इनाम के तौर पर कम से कम सांसद के वेतन और आवास के लायक तो वो है ही। अगर ऐसेनाही होता तो शायद बेईमान नेता अपनी बेईमानी को सही टहरने के लिया उनका ही उदाहरण देते की इमानदारी करने वाले के साथ ऐसे ही होता है, इसलिए किसी भी तरह पैसे कम लो ताकि जीवन के आखिरी मोड़ पैसे के लिए पार्टी या परिवार वाले इमानदारी पर ताना
न मर सके.

महेश सिंह
ई टीवी

1 comment:

  1. वे हमारी आज की राजनीति का प्रतीक हैं:)

    ReplyDelete

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....