एक क्लिक यहां भी...

Saturday, August 15, 2009

क्यो जाते हो अमेरिका ?

आज शाहरुख़ खान के सिक्यूरिटी चेक के बाद इतना हंगामा क्यो मच गया , ये मेरी समझ में नही रहा है . इसमे ग़लत क्या है की अगर कोई देश जिसके ऊपर आतंवादी खतरा मंडरा रहा हो वो अपनी सुरकचा के लिए इतना संवेदनशील है ये तो अच्छा ही है।

शाहरुख़ ने आपनी जाँच के लिए जिस तरह हंगामा मचाया वो उनकी इस मनसा को दिखता है की वो आपने की कितना विशिष्ट समझते है। जो आपनी जाँच को किसी देश के नियमो से ऊपर समझते है। एक तरफ़ तो कलाम साहब का उदाहरण है जो पूर्व रास्ट्रपति होने के बाद भी अपनी जाच को , जो की प्रोटोकाल का उल्लंघन था, को सामान्य बात मानते है दूसरी तरफ़ इन साहब का उदाहरण है। अगर इनको जाँच से इतना परहेज है तो ये लोग को अमेरिका जाते ही क्यो है। कौन बुला रहा है इन्हे वहा ? एक टीवी चॅनल के फोनों में शाहरुख़ ने कहा की अगर कोई फिर मजबूर करेगा तो फिर से वे वहा जायेंगे। क्या इन्हे बराक ओबामा या हेलरी क्लिंटन ने इन्हे वहा आने के लिए मजबूर किया था ? ये लोग ख़ुद ही अमेरिका में जाते है और फिर भारत की तरह वहा भी अपना रुतबा कायम करना कहते है. ऐसा होने पर इस तरह की नौटंकी करते है और बिना बात के सिर्फ़ नियमो के पालन को भारतीय अस्मिता से जोड़ देते है.
अमेरिका या किसी भी देश के नियम अगर उसके नागरिक पालन करते है तो कोई विदेशी जिसका उस देश के विकास में किसी तरह का योगदान नही है तो उस देश के ऑफिसर क्यो नही उससे नियमो का पालन करवाएंगे।
क्या आप इस बात को कुबूल करेंगे की किसी दुसरे देश का अदना सा ऐक्टर जिसको आप जानते भी नही वो आप के देश में आए और देश की सुरकचा के लिए बने महेश सिंह एत्व न्यूज़ मना कर दे। क्या आप इस बात को सहेंगे।
मेरे ख्याल से नही, तो फिर हमें इस तरह की बातो को नजर अंदाज कर देना चाहिए ...नेताओ को भी साथ ही मीडिया को भी ...
mahesh singh
ETV NEWS

4 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. You are right that is the security processor... that's it... Nothing else. It is not a matter of race & famous personalities. We ladies remover our Mangalsutra & Bangles in security process that time we are not saying that we are hindu. If they are telling about Famous personalities so what about “APJ Kalamji”.This is very common here.

    But yes this will give hype to SRK new movie...

    ReplyDelete
  3. अब अगर शाहरुख खान, जिन्हें ग्यारह मुल्कों की पुलिस जानती है, को अमेरिका वाले नहीं पहचानते तो स्वत: ही महान मुल्कों की लिस्ट में अमेरिका का नाम नीचे खिसककर बारहवें स्थान पर तो कम से कम आ ही जाना चाहिये । हमारे विचार से बेचारे अमेरिका के लिए इतनी सजा काफी है अब शाहरुख अमेरिका को माफ कर दें तो हमें कोई आपत्ति न होगी ।

    ReplyDelete
  4. महेश जी,ये कहना गलत है की शाहरुख़ खान एक अदने से कलाकार है,आप अगर उनकी उपलब्धियों पे एक बार गौर करेंगे तो पाएंगे की एस नहीं है.सरक को फ्रांस की सम्मानित कर चुकी है.विश्व प्रसिद्ध मैडम तुसाद की वास म्यूज़ियम मैं उनकी प्रतिमा लग चुकी है,इसी तरह शाहरुख़ खान अन्य जगह भी सम्मानित हो चुके है,जो हम आप नहीं हुए है.अमेरिका और इंलैंड मैं तो वे खासे प्रसिद्ध है.दूसरा,क्या आप मानते है की किसी के साथ अगर कोई अप्रिये घटना घाट जय तो उसे वह नहीं जाना चाहिए.इसका जवाब सायद आप बेहतर दे सकते है.मीडिया के चरित्र से आप तो वाकिफ है ही,इसलिए मीडिया तो हर उस बात को उठायेजो बिक सके,शाहरुख़ ऐसा ही चेज़े है जो बाज़ार मैं बिकती है आब आते है शाहरुख़ खान के साथ gujre हादसे को लेकर. ये सही है की शाहरुख़ ने जिस तरह इस मामले को उछाला वो कही न कहीं अत्तेंशन पाने वल्ली हरकत थी,पैर हमें ये नहीं भूलना चाहिए की जो कुछ भी उनके साथ हुआ वो सामान्य भी नहीं कहा जा सकता है.एक आदमी को २ घंटे रोकना सही नहीं कहा जा सकता है,जब उनके साथ वाले को जाने दिया गे तो ओफी उन्हें ही क्योँ रोका गया?की वो कोई अपराधी थे या उनके खिलाफ रेड कार्नर नोटिस जारी था?ऐसा कुछ भी नहीं है,जहाँ तक अखबारों मैं जो आया है उसके अनुसार,वाहे के आवर्जन अधिकारियो को सक था की शारुख के तार अंडर वर्ल्ड से जुरे है,अगर ऐसी बात है भी तो वह के अधिकारियो को इस बारे मैं पूछने का कोई अधिकार नहीं है, ये यहाँ की सर्कार द्वारा चेक किया जाना चाहिए.उन्हें किस से बात भी नहीं करने दिया गया,वो भी सही नहीं है,अगर उन्हें बात करने दिया जाता तो वह के अधिकारियो को उनकी भूल के बारे मैं पता चल जाता.पैर जैसअ की हम सभी लोग जानते है की ९/११ के बाद जो हालत बने है उन्स्में हर मुसल मन सक के घेरे मैं आ गया है,इसमें हामी आपकी गलती तो नहीं है पैर ये बात आपको माननी होगो की जिस किसी के साथ ऐसी घटना घटेगी तो उसे बुर लगे ही,अगर वो मुस्लिम है तो उसे और भी बुरा लगे गा.हम सी बात स्वे भी इंकार नहीं कर सके की वह के अधिकारियो का बेहविओउर रासिअल नहीं होगा.जब वे कलम साहेब को चेक करने से नहीं चुकते जिन्हे तो प्रोटोकॉल प्राप्त है,तो सोच सकते है की उन्होंने शाहरुख़ खान के साथ किस मानसिकता से काम किया होगा.अगर आप या हम भी शाहरुख़ जितने फमोउस होते तो निश्चि तौर पे हम भी शारुख की तरह ही रेअक्ट करते.ये बड़ा कमों सी बात है ,इससे आप अपने एगो से जोर कर देखेंगे तो आप भी पायेंगें की उनका बेहविओउर असामान्य नहीं था.अंत मैं यही कहूँगा की ज्सिके साथ बीतती है, वही जनता है.

    ReplyDelete

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....