एक क्लिक यहां भी...

Friday, August 21, 2009

राहुल छत्तीसी

राहुल गांधी 20-21 दो दिनी छत्तीसगढ़ की यात्रा पर हैं....जगदलपुर में देरी से पहुंचे राहुल बाबा को एक बार फिर अंतिम पंक्ति का आदमी याद आया औऱ चुपके से राहुल निकल गये रायपुर के नज़दीक एक बीहड़ गांव में जानने उनके हाल.....ना मीडिया को ख़बर ना प्रशासन को बस बाबा को निकलना था तो चले गये आदिवासी का जानने सच्चे हाल वैसे तो एक और बाबा हैं...जिन्हे लोग चांउर वाले बाबा कहते हैं..लेकिन ये चांउर बाबा कभी ऐंसे स्टंट नहीं करते....शायद उन्हे इस बात का भी बखूबी अहसास है कि वे अब दो बार आ ही चुके हैं तीसरी बार वैसे भी आना नहीं तो ऐंसा कुछ क्या करना जो गांव ग़रीब से सीधा जुड़ा हो....राहुल में सचमुच बहुत संभावना हैं ये कोई आम आदमी का सोकॉल्ड सिपाही नहीं बल्कि सच्चा आखिरी आदमी का सिपाही है.....वॉह वॉह राहुल ...मैं राहुल के इस काम की खुले गले से तारीफ़ करता हूं।।।।

1 comment:

  1. मात्र सात पंक्तियो मे दो बडे बडे सच ?

    ReplyDelete

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....