एक क्लिक यहां भी...

Friday, February 27, 2009

जुटने लगे प्रवासी पक्षी....

कुछ ऐसा मौसम आ गया है विश्वविद्यालय के परिसर में कि तमाम प्रवासी पंछी परिसर में जुटना शुरू हो गए हैं। इनमे से कई तो कई साल बाद भोपाल आए हैं और कई पुरानी यादें लिए आए हैं......और ये मौका दिया है दीक्षांत समारोह के आयोजन ने। आज २७ तारीख है और कल दीक्षांत समारोह है.....विश्वविद्यालय परिसर ज़बरदस्त चहल पहल का केन्द्र बन चला है क्यूंकि कि वर्ष २००४ से लेकर के अब तक यानी २००८ तक के उतीर्ण छात्र जो देश और दुनिया में तमाम जगहों पर पत्रकारिता के झंडे बुलंद कर रहे हैं धीरे धीरे इकठ्ठा होने लगे हैं.....
ये पंछी अपने कई पुराने साथियों से मिल कर गले लग चहक रहे हैं, तो कई का इंतज़ार कर रहे हैं.....जो नहीं आ पा रहे हैं उन्हें याद कर रहे हैं। कई जगह लोग उछल कर गले मिलते देखे गए तो कई आंखों से खुशी के आंसू भी निकलते देखे गए.....अबे तुम तो मोटे हो गए हो !, क्या यार शादी कर ली बुलाया भी नहीं......कहाँ हो यार कुछ ख़बर ही नहीं, जायका की कचौडी याद है .....और पोहा ? इस तरह के तमाम जुमले उछल रहे हैं।
जिन की क्लास बंक की जाती थी आज उनके पास घंटो बैठ कर बतियाया जा रहा है......और कईयों ने तो कक्षा में जा कर अपनी पुरानी सीट पर अपने लिखे नाम भी ढूंढ लिए......जूनियर भी उत्साहित हैं...सुपर जूनियर आश्चर्य के साथ आनंदित.....
आज रात कई जगह महफिलें जमेंगी, पुरानी यादें ताज़ा होंगी, पुराने जुमले दोहराए जायेंगे, पुराने चुटकुले सुनाये जायेंगे, पुराने किस्से कहे जायेंगे, पुराने नाम फिर रखे जायेंगे.....क्यूंकि वक़्त भले ही नया हो, इंसान वही रहता है और यादें वक़्त के बदलने और इंसान के ना बदलने की गवाह................
निदा साहब कहते हैं.....

जाने वालों से राब्ता रखना
दोस्तो रस्म-ए-फातिहा रखना

घर की तामीर चाहे जैसी हो
इसमें रोने की कुछ जगह रखना

मस्जिदें हैं नमाजियों के लिए
अपने घर में कहीं खुदा रखना

जिस्म में फैलने लगा है शहर
अपनी तन्हाईयाँ बचा रखना

उमर करने को है पचास को पार
कौन है किस जगह पता रखना


अंत में आपको आमंत्रण पत्र का मजमून दिए दे रहका हूँ प्रिंट निकाल कर ले आइयेगा तो ज्यादा दिक्कत नहीं होगी

INVITATION FOR CONVOCATION
Dear Students,
The Makhanlal Chaturvedi Rashtriya Patrakarita Evam Sanchar Vishwavidhyalay is holding its second Convocation for 2006, 2007 & 2008 batches on 28th February 2009 at Samanvay Bhavan (Apex Bank) New Market Bhopal. You are cordially invited on the occasion.
The students are requested to occupy their seats by 4.30 PM.
Dr. Avinash Bajpai
Placement Officer
MCRPVV, Bhopal
Mob:- 9425392448
Off.:- 0755- 4265337

1 comment:

  1. manwar shayari padh kar to aapar khushi huye....... ki ek bar phir sare gam aur khushi ko bhulkar sab log ek sath milenge.... lakin samanye pane ka awsar har insan ko nahi milta hai... jitne ko milta hai........

    ReplyDelete

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....