एक क्लिक यहां भी...

Wednesday, January 28, 2009

दो दो हिंदुस्तान

केव्स संचार पर हम लगातार देश की हालातों पर चर्चा करते है तो आज सोचा की क्यों ना लम्बी चर्चा की जगह एक कविता जो गुलज़ार ने लिखी है और मुझे बहुत पसंद है वो पेश कर दी जाए.....तो इस स्वाद चखें

हिंदुस्तान में दो दो हिंदुस्तान दिखाई देते हैं

एक है जिसका सर नवें बादल में है
दूसरा जिसका सर अभी दलदल में है

एक है जो सतरंगी थाम के उठता है
दूसरा पैर उठाता है तो रुकता है

फिरका-परस्ती तौहम परस्ती और गरीबी रेखा
एक है दौड़ लगाने को तय्यार खडा है‘
अग्नि’ पर रख पर पांव
उड़ जाने को तय्यार खडा है
हिंदुस्तान उम्मीद से है!

आधी सदी तक उठ उठ कर
हमने आकाश को पोंछा है
सूरज से गिरती गर्द को छान के
धूप चुनी है
साठ साल आजादी के…
हिंदुस्तान अपने इतिहास के मोड़ पर है
अगला मोड़ और ‘मार्स’ पर पांव रखा होगा!!
हिन्दोस्तान उम्मीद से है॥

2 comments:

  1. अच्छी अभिव्यक्ति , बधाईयाँ !

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....