एक क्लिक यहां भी...

Sunday, August 10, 2008

चूके तीर .... स्थिति गंभीर !



ओलम्पिक में भारत के पहले दिन को कल रात अधिकतर टीवी चैनल मिला जुला बताते नज़र आए पर अगर विश्लेषण करें तो ये दिन निराशाजनक अधिक था, न कि मिला जुला। हालांकि भारत के बजरंग लाल ने नौकायन का पहला दौर पार कर लिया और विजेंद्र कुमार ने मुक्केबाजी में पहले दौर में जीत हासिल की पर निराशा इसलिए हुई क्यूंकि जिन खेलों में सबसे ज्यादा पदक की उम्मीदें थी उनमे हमारा प्रदर्शन स्तरीय भी नहीं रहा।
ओलम्पिक के साथ ही सबसे ज्यादा आशावान हम सब भारतीय तीरंदाजों और निशानेबाजों को लेकर थे पर उम्मीदें टूटती नज़र आयीं। भारतीय निशानेबाज जहाँ दिन भर लक्ष्य से भटकते रहे वहीं तीरंदाज भी कोई ख़ास तीर नहीं मार पाये। अंजलि भागवत और अवनीत कौर सिद्धू 10 मीटर एयर राइफ़ल में मुख्य दौर के लिए क्वालीफाई नहीं कर सकीं। क्वालीफाइंग दौर में अंजलि 29वें स्थान पर रहीं, जबकि अवनीत कौर 39वें स्थान पर। अंजलि ने 400 में से 393 अंक जुटाए, जबकि अवनीत सिर्फ़ 389 अंक ही जुटा सकी। पुरुषों की 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में समरेश जंग फाइनल के लिए क्वालीफाई नहीं कर सके. मेलबोर्न राष्ट्रमंडल खेलों में कई स्वर्ण पदक जीतने वाले समरेश 600 में से 570 अंक जुटा सके और 48 निशानेबाजों की होड़ में 42वें स्थान पर रह गए।
तीरंदाजी में भारत का प्रदर्शन इस तरह का रहा कि कुछ कहने से अच्छा है कि स्कोर ही बताया जाए। विश्व चैम्पियन डोला बनर्जी क्वालीफाइंग दौर में ही बाहर हो गईं। डोला बनर्जी क्वालीफाइंग दौर में 31वें स्थान पर रहीं, जबकि बॉम्बयाला देवी २२ स्थान पर।
और खेलों में भी बुरा हाल था, जूडो में तो भारतीय जूडोका महिलाओं के 48 किलोग्राम भार वर्ग में तोम्बी कुमुजम देवी केवल ढाई मिनट में ही परास्त कर दी गई। जूडो में अब 78 किलो भार वर्ग में दिव्या तेवर इकलौती भारतीय चुनौती बची हैं।
खेलों में भारत के लिए अच्छी ख़बर वहां से आई जहाँ उम्मीदें कम थी, मुक्केबाजी में भारत के विजेंद्र कुमार ने ७५ किलोग्राम भार वर्ग में पहले दौर में १४-२ के शानदार पॉइंट्स से जीत हासिल की। नौकायन में बजरंग लाल ने पहला दौर आसानी से पार कर लिया तो भारत की बेडमिन्टन खिलाडी साइना नेहवाल ने भी प्री क्वार्टर फाइनल में जीत हासिल की।
अब बात दुनिया भर की तो ओलम्पिक बीजिंग का पहला स्वर्ण पदक चेक गणराज्य की कैटरीना इमोंस के नाम रहा। हालाँकि चीन ने महिलाओं की 48 किलो भारोत्तोलन स्पर्धा में पहला स्वर्ण पदक हासिल किया. चेन ज़िझिया ने 212 किलो वज़न उठाकर देश को पहला स्वर्ण दिलाया. चीन को दूसरा स्वर्ण पुरुषों की निशानेबाज़ी स्पर्धा में मिला. 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में पेंग वेई ने स्वर्ण पदक जीता.

1 comment:

  1. यहाँ इटली में वह खेल नहीं देखने को मिलते जिसमें भारत भाग लेता हो, लेकिन सौ मीटर ब्रेस्ट स्ट्रोक तैराकी में संजीव सेजवाल अच्छे लगे थे, उनका क्या हुआ, क्या वह क्वालीफाई कर पाये? धन्यवाद.

    ReplyDelete

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....