एक क्लिक यहां भी...

Sunday, October 12, 2008

हम तो झोला उठा के चले...सबके नाम (एजुकेशनल टूर)

भोपाल,१२ अक्टूबर , दृश्य श्रृव्य अध्ययन केन्द्र के छात्र आज शैक्षिक भ्रमण पर पूना , गोवा और मुंबई के लिए रवाना हो रहे हैं । सभी छात्र हबीबगंज स्टेशन पर झेलम एक्सप्रेस की समयानुसार मिलेंगे और इस प्रकार से एक यादगार सफर की शुरुआत होगी। इस टूर पर कुल २५ लागों का दल केव्स के विभागाध्यक्ष डॉ श्रीकांत सिंह के साथ जा रहा है । आज स्टेशन पर जाने वालों से ज्यादा छोड़ने वालों के होने की सम्भावना है (आप भी आमंत्रित हैं )। निश्चित रूप से ये केव्स की स्नेहिल परम्परा की पहचान है ।

इस टूर पर हम ऍफ़.टी.आई, फिल्म्स डिविज़न , चैनल और प्रोडक्शन हाउस तो देखेंगे ही , साथ ही साथ गोवा की मस्ती , मुमबई की माया और पूना की मद्धम रवानी का लुत्फ़ भी लेंगे । इस दौरान कई वर्कशॉप और पूना में एक अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनी जो की मीडिया और वीडियो प्रोडक्शन में इस्तेमाल हो रहे आधुनिकतम इक्विपमेंट्स पर है, उसमे भी हिस्सा लेने का मौका मिलेगा ।

आज जब की इस टूर की शुरुआत हो रही है, सबसे पहले मैं अपने सभी सीनियर्स को धन्यवाद् देता हूँ क्यूंकि हमें शैक्षिक भ्रमण के लिए प्रेरित बल्कि ये कहें की उद्वेलित उन्होंने ही किया । अगर आप सब इस टूर में हमारे साथ होते तो ज़रूर इस यात्रा के श्रीसुख में वृद्धि होती। मैं टूर पर अपने किसी कारणवश अपने साथ न चल पाने वाले अपने बैचमेट्स से कहूँगा की हमें उनकी कमी खलेगी । मैं अपने जूनियर्स से कहूँगा की अगली बार के लिए वो भी तैयार रहे क्यूंकि ये मौका एक ही बार मिलता है ,और अंत में मैं इस भ्रमण दल के सभी सदस्यों से कहूँगा की खूब मस्ती करो और एक एक लम्हे को जी डालो !

भगवान् टूर को यादगार बनाएं ।

2 comments:

  1. aap log khushkismat hain ki sab dost mil kar ek tour par ja rahe hai,hame afsoos apne na jaane ka rahega aur khushi aapke jaane ki. fee amaan allah,sab khairiyat se apni manzil ko pahuche.aamin.

    ReplyDelete

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....