एक क्लिक यहां भी...

Tuesday, October 14, 2008

चुनावी शंखनाद .... पर कश्मीर चुप !

चुनाव आयोग ने आज दोपहर राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ा दीं जब उसने ५ राज्यों में चुनाव की तिथियों की घोषणा कर दी। एक प्रेस वार्ता में मुख्या चुनाव आयुक्त एन गोपालस्वामी ने ५ राज्यों में चुनाव के कार्यक्रमों की सूची जारी की पर अपेक्षा के विपरीत जम्मू एवं कश्मीर में चुनाव के कार्यक्रम के बारे में कुछ भी कहने से इनकार कर दिया गया। माना जा रहा है की बीते दिनों राज्य के हालातों के मद्देनज़र चुनाव आयोग वहाँ चुनाव और राज्यों के साथ साथ कराने में हिचक रहा है। फिलहाल नक्सल हिंसा से प्रभावित छत्तीसगढ़ के अलावा सभी राज्यों में एक ही दिन में मतदान संपन्न कराया जाएगा जबकि छत्तीसगढ़ में चुनाव दो चरणों में होंगे। सभी राज्यों में मतदान के लिए इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन का प्रयोग किया जाएगा। सभी राज्यों में मतगणना ८ दिसम्बर को होगी। चुनाव कार्यक्रम इस प्रकार है ....
  1. छत्तीसगढ़ ( ९० सीटें ) १४ एवं २० नवम्बर
  2. मध्य प्रदेश (२३० सीटें ) २५ नवम्बर
  3. दिल्ली ( ७० सीटें ) २९ नवम्बर
  4. मिजोरम (४० सीटें ) २९ नवम्बर
  5. राजस्थान ( २०० सीटें ) ०४ दिसम्बर

चुनाव की घोषणा के साथ कई जगह युद्ध स्तर पर काम हो गया है जिसमे सबसे ऊपर है राजनीतिक दल पर उसके बाद नंबर आता है हम सब पत्रकारों का और विशेष तौर पर उनका जो इन राज्यों में काम कर रहे हैं। ख़ास तौर पर अपने जी छत्तीसगढ़ के साथियों को बधाई देना चाहूँगा कि उनकी बहुत दिनों की इच्छा पूरी हुई। चुनाव आयोग को बधाई दें आपकी सहालग का मौसम आ गया है.......

फिलहाल सूचना देना चाहूँगा कि केव्स संचार अगले सप्ताह २६ तारीख से ब्लॉग पर दीपावली विशेष प्रारंभ कर रहा है, आप सबसे अनुरोध है कि इस अवसर पर अपने

लेख

कवितायेँ

कहानियां और

संस्मरण

हमें भेजें ......हम चाहते हैं कि प्रकाश का पर्व हम मिलकर मनाएं .......इस विशेषांक का नाम क्या हो इस पर भी आपके विचार आमंत्रित हैं ! सर्वश्रेष्ठ नाम को पूरे दीपावली सप्ताह में उस सदस्य या पाठक के नाम के साथ प्रकाशित किया जाएगा ....

1 comment:

  1. मयंक चुनाव पर कुछ खास लेखों का सिल-सिला शुरू करो तो अच्छा हो एक तो किस राज्य में कौन भारी कौन हल्का इस पर मंच जनमत ले साथ ही यह भी हो कि केव्स के लोग किस सरकार को ठीक मानते हैं और क्यों आदि-आदि पर कुछ नया करो सुना है तुम बडे रचनात्मक हो।।।।।।

    ReplyDelete

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....