एक क्लिक यहां भी...

Friday, October 10, 2008

पहल

खैर जो भी हुआ वोही भला है कम से कम हमारे ब्लॉग का सन्नाटा तो टूटा नवीन भइया ने ब्लॉग मैं गर्मी पैदा कर दी जो जाड़े से पहले जरूरी थी। ब्लॉग की भी एक मर्यादा होनी ही चाहिए। हम अपने ब्लॉग मैं तथ्यों को रखें कीचड़ को नहीं दिल के मेल को रखें मैल को नहीं। हमारे पास तथ्य न हो तो इसका मतलब यह तो नहीं की हम कीचड़ उछालने की राजनीती करें। याद रखें किसी के ऊपर कीचड़ उछालने से पहले हमेशा हाथ अपना ही गन्दा होता है और हमेशा पोस्ट पढ़ तो लेते हैं कभी प्रतिउत्तर भी दिया करें
आपके उत्तर की प्रतीक्षा मैं
आशु प्रज्ञ मिश्र

1 comment:

  1. सही बात है ।पढने के बाद प्रतिक्रिया दें

    ReplyDelete

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....