एक क्लिक यहां भी...

Monday, September 15, 2008

खाद्य समस्या

नेता जी चमचों से घिरे थे
तभी वे बुदबुदाये
अरे कोई तो उपाय सुझाये
गरीबी कैसे हटे ?
(कम से कम मौज के पाँच साल तो कटें)
चमचो ने सुझाव किया पेश
धनी हो सकता है अपना यह देश
अगर गरीबी हटानी ही है
तो इसके लिए जरुरी है
की बाज़ार से गेंहू गायब हो जाए
क्योंकि कंगाली मैं आटा होता है गीला
यही सबसे बड़ी मजबूरी है
सुनकर उनके चेहरे पर छाया उल्लास
आया मधुमास
पसंद आ गई चातुरी
न रहेगा बांस
न बजेगी बांसुरी
बोले एवमस्तु।
अगले ही दिन गेंहू बाजार से
लापता हो गए
ब्लैक के भावःबढ़ गए
और गरीबी हटाने की दिशा मैं वे
एक कदम और आगे बढ़ गए।

1 comment:

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....