एक क्लिक यहां भी...

Sunday, September 21, 2008

आतंक के ख़िलाफ़ ई मेल अभियान

माँ भारती के शूरसूत
लेने न पायें रिपु महि
राणा शिवा के वंशजों के
शौर्य मैं संशय नही
दुर्नाम संघ सिमी है
रण की बजता दुंदुभी
उसको पढ़ा दो पाठ ऐसा
भूल न पाये कभी
मैं अनुरोध करता हूँ केव्स के अपने सभी सुह्रदजनों से , यह एक राष्ट्रीय विपदा का समय है। हम सभी पत्रकार बान्धुओं को इस विपदा के ख़िलाफ़ एकजुट होकर इस आतंकवाद का मुकाबला करना होगा। हमारा मध्यम कुछ भी हो , हमें इस विपदा के खिलाफ एक बौधिक क्रांति को ललकार देनी ही होगी। हम अपने से जुड़े हुए जितने भी लोगों को इन्टरनेट के मध्यम से जानते हैं उन्हें कम से कम पाँच ईमेल आगे भेजने को कहेंगे जो ये संदेश देते हों आतंक हटाओ देश बचाओ।

2 comments:

गूगल बाबा का वरदान - हिन्दी टंकण औजार

अर्थ...अनर्थ....मतलब की बात !

ब्लॉग एक खोज ....